Varanasi: वृद्ध दंपत्ति ने जान-माल की सुरक्षा हेतु शासन-प्रशासन से लगाई गुहार, अब तक नहीं मिला कोई समाधान

एक ओर जहां पूरे देश में गरीबों के लिए पीएम मोदी हर सुख-सुविधा मुहैया कराने की कवायद में जुटे हुए हैं, तो दूसरी ओर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भी गरीब व जरूरतमंदों की मदद करने में पीछे नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ही संसदीय क्षेत्र वाराणसी के औसानगंज थाना जैतपुरा अंतर्गत एक वृद्ध दंपत्ति और उसके परिवार का कुछ लोगों द्वारा उत्पीड़न करने का मामला प्रकाश में आया है.

स्वतंत्रता सेनानी ने मीडिया से बताई अपनी समस्या

बता दें कि औसानगंज निवासी स्वतंत्रता सेनानी राधेश्याम जिनकी अवस्था लगभग 70 वर्ष है. राधेश्याम ने सोमवार को मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि वह अपने पैतृक निवास औसानगंज ईश्वरगंगी पोखरा के समीप एक मठ में जर्जर हालात में जीवन यापन करने के लिए मजबूर है. पीड़ित राधेश्याम अपने परिवार के साथ गरीबी हालात में किसी प्रकार से अपना गुजर-बसर कर रहे हैं. पीड़ित राधेश्याम ने आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी विपक्षी चंद्रावती, इंद्रावती द्वारा मठ की जमीन पर लगभग कई वर्षों से बसे हुए कालिंदीयो को आए दिन प्रताड़ित करती रहती हैं.

अवैध ढंग से कर रहे हैं प्रताड़ित

न्यायालय द्वारा किसी प्रकार के आदेश ना होने के बावजूद भी मठ की जमीन को खाली करवाने के लिए अवैध ढंग से कालिंदीयों के घरों के ऊपर गोबर फेंकना, अवैध ढंग से पनारा बहाना जैसे कृत्य कार्यों को अंजाम देकर प्रताड़ित करना आए दिन का काम है. पीड़ित का यह भी कहना था, कि कई वर्ष पहले स्वर्गीय अनिल सिंह की पत्नी अनामिका सिंह द्वारा रजिस्टार ऑफिस में लिखा पढ़ी के माध्यम से उनको मठ की जमीन के रखरखाव के लिए दिया गया है.

जर्जर हो चुके मकान की नहीं हो सकी मरम्मत

पीड़ित राधेश्याम का कहना है कि वह सरकार और प्रशासन से अपने घर की मरम्मत के लिए कई बार गुहार लगा चुके हैं. लेकिन अभी तक उनका कोई भी समाधान नहीं हो पाया है. और जब भी वह अपने जर्जर हो चुके मकान की मरम्मत के लिए कोई भी कार्य करते हैं, तो उनकी विपक्षी चंद्रावती, इंद्रावती द्वारा बिना किसी ठोस कारण ना होने के बावजूद भी उनके मकान की मरम्मत नहीं होने देती हैं.

अप्रिय घटना घटने पर जिम्मेदार कौन ?

अब ऐसी स्थिति में सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि जहां सूबे के मुखिया गरीबों को हर सुख सुविधा से जुड़ने की बात करते हैं, तो वहीं प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में ही एक वृद्ध दंपत्ति के साथ उनके पूरे परिवार का शोषण लगातार हो रहा है. शासन प्रशासन को लेकर सवाल ये उठता है, कि आने वाले वर्षा ऋतू में अगर भारी वर्षा के कारण पीड़ित राधेश्याम का मकान जर्जर होने के कारण अगर किसी प्रकार की अप्रिय घटना घटती है, तो इसका जिम्मेदार कौन होगा?