श्रावण मास: 12 नदियों और 3 सागर के जल से बाबा विश्वनाथ का हुआ जलाभिषेक, व्यापारियों ने निकाली यात्रा

सावन के तीसरे सोमवार को परंपरागत रूप से विश्वनाथ गली के व्यापारियों ने बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक किया। विश्वनाथ गली के व्यवसाई संघ के बैनर तले आयोजित जलाभिषेक में इस बार विश्व कल्याण की कामना से मां गंगा सहित देश के विभिन्न भागों से तीन सागरों और 12 नदियों के जल से जलाभिषेक किया।

इन जगहों से निकली यात्रा

संघ के महामंत्री कमल तिवारी के अनुसार विश्व कल्याण की कामना से सावन के तीसरे सोमवार एक अगस्त को सुबह आठ बजे विश्वनाथ गली व्यवसायी संघ द्वारा जलाभिषेक यात्रा निकाली गई। परंपरागत रूप से दशाश्वमेध चितरंजन पार्क पर सपरिवार जल पात्र लेकर व्यापारी एकत्र हुए। वहां से सिंहद्वार (डेढ़सीपुल) से साक्षी-विनायक होते हुए गेट नंबर एक से विश्वनाथ मंदिर में जलाभिषेक करने गए। फिर मां अन्नपूर्णा का दर्शन करके ढुंढिराज से होकर वापस साक्षी-विनायक के दर्शन करने के बाद जलाभिषेक का समापन हुआ।

श्री काशी विश्वनाथ का धाम शनिवार को कांवरियों के बोल-बम से गूंज उठा। सोमवार को मंगला आरती के बाद श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन पूजन का सिलसिला आरंभ हुआ। दोपहर की भोग आरती तक दर्शन पूजन के लिए कतार लगी रही। भोग आरती के बाद भीड़ में थोड़ी कमी आई लेकिन दो बजे के बाद दबाव फिर से बढ़ने लगा।