काशियना फाउंडेशन का संकल्प – “आजादी के शताब्दी वर्ष तक भारत होगा नशामुक्त”

वाराणसी. काशियाना फाउंडेशन द्वारा आयोजित श्रधांजलि सभा एवं राष्ट्रीय संगोष्ठी विषयक नशामुक्त भारत (गांधी जी की परिकल्पना ) कार्यक्रम लहरतारा स्थित कबीरमठ में सम्पन्न हुआ. इस दौरान मुख्यातिथि सी आई एस एफ कमांडेंट अजय जी,कुलसचिव आर.के.उपाध्याय जी,डॉ उत्तम ओझा जी प्रदेश संयोजक दिव्यांग प्रकोष्ठ,महंत गोविंद दास शास्त्री जी,सुमित सिंह सदस्य राष्ट्र नशामुक्ति एव पुनर्वास समिति, भारत सरकार (संस्थापक -काशियाना फाउंडेशन)रीता सिंह .

कार्यक्रम की शुरुआत गांधी जी को पुष्प अर्पित कर एवं वैष्णव जन गायन से सुरुवात हुई तत्पश्चात गांधी जी के विचार एवं उनके नशामुक्त भारत हेतू वृहद चर्चा हुई.गांधी जी की परिकल्पना भारत को समृद्ध सशक्त एवं नशामुक्त बनाने की थी. कार्यक्रम का संचालन सुमित सिंह संस्थापक काशियाना फाउंडेशन एवं धन्यवाद भावेश सेठ ने किया.

आर.के उपाध्याय जी(पू. कुलसचिव, तिब्बती विश्वविद्यालय) ने कहा कि गांधी जी एक व्यक्ति नही विचार है उनके दर्शन को समझने हेतु हमे स्वयं सत्य अहिंसा के मार्ग पर चलना होगा.अजय जी (डी आईजी- सी आई एस एफ)जी ने कहा कि गांधी जी चम्पारण यात्रा के दौरान भारत को नशे से आजाद होने के लिए कहा था.उसी विचार को सामाजिक संस्था काशियाना फाउंडेशन चरितार्थ कर रही है, मैं साधुवाद देता हूं काशियाना फाउंडेशन एवं उनकी टीम को.

डॉ उत्तम ओझा ने कहा कि गांधी जी और गांधी के विचार को समझने के लिए हमें गांधी दर्शन को पढ़ना होगा एवं गांधी जी की परिकल्पना नशामुक्ति हेतु भारत को सशक्त और समृद्ध बनाएगा.गोविंद दास शास्त्री, (महंत कबीर मठ लहरतारा) जी ने कहा गांधी के विचार कबीर से ओत प्रोत थे।गांधी जी ने भारत को नशामुक्ति करने हेतु तमाम कार्यक्रम किये जो कबीर के विचार से ओत प्रोत थे.सुमित सिंह( काशियाना फाउंडेशन) ने कहा कि हमारी संस्था काशियाना फाउंडेशन का संकल्प है कि भारत जब आजादी का शताब्दी वर्ष मनाएगा भारत को नशामुक्त करके विश्वगुरु बनाने में अग्रसर रहेगा, नशामुक्ति सिर्फ़ गांधी ही नही अपितु बुद्ध श्री कृष्ण एवं महावीर जी कि भी परिकल्पना थी. आज भारत सहित पूरे विश्व का युवा नशे की बेणीयो में जकड़ चुका है.इससे निदान पाने के ये हमारे युवाओ की टोली देशव्यापी आंदोलन कर रही है.

कार्यक्रम धनंजय,बृजेश, देवेस,अक्षय,रौनक,मनीष,आशीष, सत्यम आदि संस्था के सदस्य उपस्थित रहें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.