Nilgiri Scam: नीलगिरी इंफ्रासिटी कंपनी पर वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस की कार्यवाई , प्रदीप यादव की करोड़ों की अवैध संपत्ति जब्त

वाराणसी. ग्राहकों को लुभावने स्कीम के सपने दिखा के जमीन, गोल्ड लोन,और तौर पैकेजेस के नाम पर धोखाधड़ी करने वाली नीलगिरी इंफ्रासिट मामले में वाराणसी पुलिस लगातार सख्त कार्रवाई कर रही है. इसी क्रम में बुधवार को सीपी ए सतीश गणेश के निर्देश के क्रम में रोहनिया थानाक्षेत्र के ग्राम दरेखू में नीलगिरी कंपनी के मैनेजर जद्धुमंडी मिरबाग लक्सा निवाड़ी प्रदीप यादव द्वारा अवैध रूप से अर्जित की गयी जमीन को गैंगस्टर एक्ट में जब्त किया गया. यह कार्रवाई सिगरा पुलिस ने की है.

नीलगिरी रोहनिया के ग्राम दरेखू में नीलगिरी कंपनी एवं उसके सदस्य ( मैनेजर) प्रदीप यादव द्वारा अवैध रूप से अर्जित किए गए करोड़ों रुपए मूल्य की भूखंड को गैंगस्टर एक्ट के प्राविधानों के तहत जब्ती करण की कार्रवाई नियमानुसार सिगरा पुलिस द्वारा राजस्व कर्मियों के सहयोग से किया गया है.

इस सम्बन्ध में थाना प्रभारी सिगरा ने बताया कि नीलगिरी इंफ्रासिटी धोखाधड़ी मामले में कुर्क प्लाट/ भूमी अंतर्गत धारा 14(1) उत्तर प्रदेश गैंगेस्टर एक्ट वाद संख्या 100/2022 सरकार बनाम प्रदीप यादव ( नीलगिरी इंफ्रासिटी प्राइवेट लिमिटेड) आदेश न्यायालय पुलिस आयुक्त कमिश्नरेट वाराणसी के द्वारा 7 मई को मुकदमा अपराध संख्या 238/2021 की धारा 3 (1) गगैंगेस्टर एक्ट थाना चेतगंज कमिश्नरेट वाराणसी के क्रम में बुधवार को ये कार्रवाई की गयी है.

कंपनी के एमडी, सीएमडी और मैनेजर जिला जेल में है बंदनीलगिरी इंफ्रासिटी के मालिक विकास सिंह ने ज्यादा से ज्यादा लाभ दिलाने का लालच देकर बनारस सहित बिहार, झारखंड,मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्य के आम जनता धोखे से निवेश कराने वाले फ्रॉड कम्पनी नीलगिरी इंफ्रासिटी के मालिक दंपत्ति विकास सिंह व रितु सिंह, मैनेजर प्रदीप यादव, पलाश समेत 6 लोग जिला जेल में बंद है. इस प्रकरण में चेतगंज थाने में 16 लोगों के ऊपर 80 मुकदमें दर्ज है.