Kashi Vishwanath: गेट नं० 4 बना VIP गेट, अब केवल VIP श्रद्धालुओं को मिलेगी इस गेट से एंट्री

कुछ दिनों पहले काशी विश्वनाथ मंदिर में VIP दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं का गुस्सा फूटा था. अब इसमें एक और कड़ी जुड़ गई है. श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य द्वार गेट नं० 4 (मैदागिन-गोदौलिया मार्ग) के माध्यम से अब केवल VIP श्रद्धालु ही प्रवेश कर पाएंगे. आम श्रद्धालुओं के लिए यह मार्ग अचानक से बंद कर दिया गया है. इस बारे में मंदिर प्रशासन की ओर से बाबा विश्वनाथ के भक्तों के लिए कोई सूचना भी सार्वजनिक नहीं की गई है. गेट नंबर-4 की बगल की गली से अब लोग अन्दर जाएंगे.

गेट नं० 4 से सिर्फ वीआईपी एंट्री

मंदिर प्रशासन के अधिकारी कुछ बताने को तैयार नहीं हैं. केवल इतना कह रहे हैं कि गेट नं० 4 से सिर्फ वीआईपी एंट्री होगी. उसका इस्तेमाल इमरजेंसी सर्विस के लिए होगा. श्रद्धालु मंदिर चौक तक मोबाइल लेकर अंदर जा सकें, इसका ट्रॉयल भी चल रहा है. वहीं, कमिश्नरेट की पुलिस का कहना है कि हमें इस संबंध में कुछ नहीं पता है.

दर्शन कराने के बहाने ऐंठ लिए रूपये

बाबा विश्वनाथ के मंदिर से जुड़े लोगों ने दबी जुबान कहा कि पुलिस और प्रशासन के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. तीन-चार दिन पहले दिल्ली से कोई श्रद्धालु आए थे. उन्हें किसी तीर्थ पुरोहित ने बाबा विश्वनाथ का दर्शन कराया और 5000 रुपए ऐंठ लिया. वह श्रद्धालु दर्शन-पूजन के बाद दिल्ली वापस लौटे तो उन्होंने ट्वीट कर दिया. उनके ट्वीट पर दिल्ली से लखनऊ तक हंगामा हुआ. मंदिर प्रशासन के अफसर और पुलिस आमने-सामने आ गए. हंगामे के बीच ही एडीसीपी सिक्योरिटी अजय कुमार सिंह डीजीपी ऑफिस से संबद्ध कर दिए गए.

प्रोटोकॉल के आड़ में पुलिस कर रही मनमानी: मंदिर प्रशासन

विश्वनाथ मंदिर में प्रोटोकॉल का मामला भी पुलिस की बजाय अब मंदिर प्रशासन के पास है. इसे लेकर पुलिस अफसरों का दबी जुबान कहना है कि मंदिर प्रशासन प्राइवेट सिक्योरिटी को यहां हावी करना चाह रहा है. वहीं, मंदिर प्रशासन के कर्मचारियों का कहना है कि प्रोटोकॉल की आड़ में पुलिस मनमानी कुछ ज्यादा ही करती थी.

ये द्वार रहेंगे खुले

अब सब कुछ नियमानुसार मंदिर प्रशासन की मंशा अनुरूप ही चलेगा. मंदिर प्रशासन की ओर से बताया गया कि गेट नंबर-4 के बगल की गली के साथ ही गेट नंबर-2 सरस्वती द्वार, गेट नंबर-1 ढुंढिराज द्वार, नंदू फारिया गली और ललिता घाट यानी गंगा द्वार से श्रद्धालु बाबा विश्वनाथ के धाम से आ सकते हैं. गेट नंबर-3 नीलकंठ गली मंदिर से बाहर निकलने के साथ ही इमरजेंसी सर्विस के लिए है.