ज्ञानवापी मस्जिद विवाद : कोर्ट कमिश्नर बदलने के लिए मुस्लिम पक्ष ने कोर्ट में दायर की याचिका, दोपहर 2 बजे से शुरू हुई सुनवाई

वाराणसी. ज्ञानवापी मस्जिद-शृंगार गौरी सर्वे के लिए शुक्रवार को कोर्ट कमिश्नर ने पहले दिन सर्वे किया. इस दौरान शृंगार गौरी का सर्वे और वीडियोग्राफी सर्वे टीम ने पूरी कर ली पर आरोप है कि मुस्लिम पक्ष ने उन्हें बैरीकेडिंग के अंदर नहीं जाने दिया और मस्जिद परिसर के सर्वे से रोक दिया. इस बात की जानकारी डीएम को कोर्ट कमिश्नर ने दी है और शनिवार को दोपहर 3 बजे फिर से सर्वे की बात कही है.

वहीं शनिवार की सुबह प्रतिवादी पक्ष के अधिवक्ता अभयनाथ यादव ने कोर्ट में न्यायालय द्वारा सर्वे के लिए नियुक्त कोर्ट कमिश्नर को बदले जाने कि अर्जी दी है. उनकी इस अर्जी पर दोपहर दो बजे कोर्ट द्वारा सुनवाई की जायेगी.

बता दें कि शुक्रवार को ही प्रतिवादी पक्ष ( मुस्लिम पक्ष) के अधिवक्ता अभयनाथ यादव ने सर्वे के पहले दिन की कार्रवाई के बाद कहा था कि कोर्ट का इस तरह का कोई आदेश नहीं है की बैरिकेडिंग के अंदर जाकर आप उसकी वीडियोग्राफी कर सकें, लेकिन वकील कमिश्नर महोदय ने कहा कि मुझे ताला खोलवाकर के उसकी वीडियोग्राफी करने का आदेश है, जबकि ऐसा कोई आदेश कोर्ट द्वारा नहीं है.

अधिवक्ता प्रतिवादी पक्ष ने बताया कि मैंने कोर्ट कमिश्नर की निष्पक्षता पर प्रश्नचिह्न खड़ा करते हुए एक प्रार्थना पत्र उन्हें दिया कि आप का व्यहवहार निष्पक्ष नहीं है. आप पार्टी के रुप में यहां कार्रवाई करने के लिए आ रहे हैं. प्रतिवादी पक्ष के अधिवक्ता ने शुक्रवा रको ही कहा था कि कोर्ट कमिश्नर आप पर मुझको कोई भरोसा नहीं है और कल मै इसी आशय का प्रार्थना पत्र कोर्ट में भी दूंगा और इन कोर्ट कमिश्नर को बदलवाने की मांग करूंगा. इस कोर्ट कमिश्नर की कार्रवाई से मै बिलकुल संतुष्ट नहीं हूं.

मस्जिद के अंदर आज भी होगा सर्वे

वहीं वादी पक्ष के अधिवक्ता ने शुक्रवार की कहा था कि आज कुछ स्थलों की वीडियोग्राफी हुई है. मस्जिद परिसर के अंदर जाने को लेकर मुस्लिम पक्ष ने विरोध जताया है. कल तीन बजे से फिर से कार्रवाई होगी. कल बैरिकेडिंग के अंदर जाएंगे. मस्जिद के अंदर भी सर्वे होगा। कोर्ट कमिश्नर ने तीन बजे का समय निर्धारित किया है. सर्वे के पहले दिन शुक्रवार को हुए हल्ला- हंगामा, धार्मिक नारेबाजी और सर्वे के दौरान की घटना के मद्देनजर शनिवार के सर्वे के लिए पुलिस कमिश्नरेट ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं. इसके तहत एक किमी. के दायरे में लगभग एक हजार पुलिस और पीएससी के जवान तैनात किए गए हैं. एडवोकेट कमिश्नर ने जिला मजिस्ट्रेट से कहा है कि हम बैरिकेडिंग के अंदर जाएंगे और सर्वे का काम होगा.