BJP सोशल मीडिया के सह-संयोजक से मारपीट के आरोप में लंका थाने के दरोगा सहित पांच पुलिसकर्मी सस्पेंड, मुकदमा दर्ज

वाराणसी. भाजपा के युवा नेता महानगर सोशल मीडिया के सह प्रभारी रितिक मिश्रा के साथ मंगलवार की रात लंका थाने की उपनिरीक्षक रवि शंकर निषाद और कांस्टेबल राकेश यादव ने जो दुर्व्यवहार किया था, उसकी परिणति दोनों के निलंबन से हुआ. उक्त घटना के बाद भाजपा महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय ने कहा कि किसी भी कार्यकर्ताओं के साथ ज्यादती बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

मीडिया प्रभारी किशोर कुमार सेठ के अनुसार मंगलवार की रात्रि विधायक सौरभ श्रीवास्तव, महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय के साथ अशोक पटेल, राहुल सिंह, शत्रुघ्न पटेल, जगन्नाथ ओझा, अमित सिंह चिंटू, अमित राय सहित भारी संख्या में थाने पहुंचकर उक्त पुलिसकर्मियों के खिलाफ एफ आई आर कराया था.

रितिक मिश्रा का आरोप है कि नगवां चौकी में दरोगा रवि शंकर निषाद और तीन सिपाही मौजूद थे. रितिक ने कहा कि दरोगा ने पुलिस चौकी आने का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि बाइक टकरा गई है. इस पर दरोगा ने उनसे उनके हेलमेट के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि जल्दबाजी में छूट गया है. इस पर दरोगा और सिपाही उन्हें गाली देने लगे. विरोध करने पर सभी ने उनकी जमकर पिटाई की और पैसे की मांग की.

रितिक ने आरोप लगते हुए अपनी तहरीर में लिखा है कि पैसा देने में असमर्थता जताने पर दरोगा रवि शंकर निषाद ने उनका पर्स, मोबाइल और बाइक की चाबी छीन ली. इसके बाद उन्हें ले जाकर लंका थाने के लॉकअप में बंद कर दिया. थाने में तैनात सिपाही राकेश यादव ने उन्हें छोड़ने के बदले में पैसे की मांग की. पैसा न देने पर गाली-गलौज करते हुए फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी भी दी.