मोहर्रम के जुलूस के दौरान बवाल, जमकर चले ईंट-पत्थर, दर्जनों घायल

मिर्जामुराद । क्षेत्र के करधना ग्राम में ताजिया ले जाते समय ताजियादरो ने खदेरू साव के दुकान के सामने स्थित जामुन का पेड़ के डाल को काटने लगने,मना करने पर ताजिया के साथ जुलूस में शामिल लोगों ने विवाद कर लिया और विवाद मारपीट में तब्दील हो गई और जमकर शस्त्र का प्रदर्शन करने के साथ साथ जमकर पत्थर बाजी हुई ।सूचना पर पहुंचे गांव के अन्य वर्ग के लोग ताजिया जुलूस ले जाने वाले का प्रतिरोध विरोध किया जिसमें जमकर पत्थरबाजी हुई पत्थर बाजी व लाठी डण्डा के प्रहार से दर्जनों लोग घायल हो गए। यहां तक कि उग्र लोगो ने खदेरू साव के किराना दुकान भी क्षतिग्रस्त कर दिया ।

पूरा गांव में अफरा-तफरी का माहौल हो गया सूचना पर पहुंची मिर्जामुराद पुलिस समझाने का प्रयास किया लेकिन दोनों पक्ष मे एक भी पक्ष ने बात नहीं माना,लगातार पथराव होता रहा इस मामले का आला अधिकारियों के संज्ञान में आते ही मिर्जामुराद,जंसा, कपसेठी व बड़ागांव आदि थानों की फोर्स के साथ एस पी ग्रामीण,एडिशनल एसपी तथा सीओ बड़ागांव एसडीएम राजातालाब आदि मय फोर्स सहित घटनास्थल पर पहुंच मामले को कंट्रोल किया लेकिन तनाव बरकरार बना रहा।
जानकारी अनुसार जंसा थाना क्षेत्र के नईबस्ती से मुहर्रम के ताजिया का जुलूस मिर्जामुराद के करधना ग्राम में पहुँचा तभी स्थानीय निवासी खदेरू साव के दुकान के सामने छस्यादार जामुन के पेड़ की डाल काटने लगे।रास्ता के पर्याप्ता को देखते हुए लोगो ने पेड़ के डाल को काटने से मना किया। लेकिन दूसरे मजहब के लोग नहीं माने और दुकानदार से मारपीट कर लाठी डंडे से प्रहार कर गम्भीर रूप से घायल कर दिए। जुलूस मे प्रयुक्त शस्त्र का जमकर प्रदर्शन करने लगे।आधा घण्टा तक मामला चलता रहा ।

जब बगल के प्रतापपुर बस्ती व अन्य बस्ती के सैकड़ो लोग टूटे तो जुलूस में शामिल लोग ताजिया छोड़ भाग निकले ।मौका पर भीड़ ने ताजिया को क्षतिग्रस्त कर दिया।सूचना पा मौके पर भारी मात्रा में पुलिस फोर्स लोगो को तीतर बितर कर भगाया।लेकिन स्थिति तनावपूर्ण बना हुआ रहा ।घटनास्थल पर पहुचे कुछ लोगो ने जय श्रीराम व बंदेमातरम का नारा लगाया।घायलों में ,आदर्श जायसवाल,राजन जायसवाल,राहुल,खदेरू,,सोनू आदि लोग रहे। कुछ देर बाद आईजी के सत्यनारायण मौके पर पहुंच जायजा लिया व क्षतिग्रस्त ताजिये को तुरंत सम्बंधित समुदाय के लोगो के साथ बातचीत कर मौके से हटवाया।
इधर एस पी ग्रामीण ने बताया कि एक ताजिया लाते समय रोड के किनारे लगे पेड़ के डाल काटते वख्त विवाद हो गया जिसमे पत्थर बाजी भी हुई। जिसमे कुछ लोग घायल हुए है जिनका उपचार व मेडिकल कराया जा रहा है। एस पी ग्रामीण ने शस्त्रों के प्रयोग को लेकर इंकार कर दिया।इस इकलौता ताजिया को करधना बाज़ार होते भटपुरवा गाँव ले जा रहे थे वहां अन्य कई ताजिया समूह से मिलकर कुंडरीया गाँव स्थित कर्बला में परम्परागत ढंग से दफन किया जाता है।
घटना को लेकर भारी पुलिस बल तैनात रही। बाजार काफ़ी देर तक बंद रहे। पुलिस का कहना है कि सी टीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान कर कार्यवाई की जायेगी।