BHU इफ्तार विवाद: आपत्तिजनक नारे लिखने वालों को चिन्हित कर कड़ी कार्यवाही करे प्रशासन, ABVP ने किया मांग

वाराणसी. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अपने स्थापना काल से ही राष्ट्र एवं समाज हित में कार्य करते आ रही है। विद्यार्थी परिषद का स्पष्ट मत है कि समाज में सभी वर्गों को एकीकृत हो कर राष्ट्र के उत्थान में अपना योगदान देना चाहिए.

गुरुवार को माओवादी विचारधारा के पोषक वामपंथी छात्र संगठनों द्वारा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय परिसर में विभिन्न स्थानों पर आपत्तिजनक नारे लिखे जाने का अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कड़ी निंदा करती है. अभाविप काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग करती है कि दोषियों को चिन्हित कर सख्त से सख्त कार्यवाई की जाए अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे वामपंथी संगठन इसी प्रकार से जाति, क्षेत्र एवं मत के नाम पर समाज एवं राष्ट्र में वैमनस्यता फैलाने का कार्य करते हैं. वर्तमान समय में विद्यार्थियों के मध्य वामपंथियों के देश विरोधी एवं समाज विरोधी साजिश का खुलासा होने के पश्चात अब इनके निशाने पर आम विद्यार्थी आ गए हैं. विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बढ़ते कार्य एवं विद्यार्थियों के मध्य राष्ट्रीयता के विचारों की बढ़ती प्रासंगिकता के कारण छटपटाहट में वामपंथी संगठन इस प्रकार के कृत्य को अंजाम दे रहे हैं.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय इकाई प्रशासन से मांग करती है कि उक्त प्रकरण के दोषियों को चिन्हित कर उनके ऊपर सख्त से सख्त अनुशासनात्मक एवं कानूनी कार्यवाई की जाए. जिससे विश्वविद्यालय परिसर में शैक्षणिक वातावरण सुदृढ एवं शांतिपूर्ण रहे.