BHU: ऑफलाइन क्लास खोलने के लिए ABVP ने किया प्रदर्शन, मुंह पर काली पट्टी बांध जताया विरोध

वाराणसी. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अपने स्थापना काल से ही छात्रहित एवं समाज हित हेतु कार्य करते आ रही है.काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में भी विद्यार्थी परिषद समय समय पर छात्रहित के मुद्दों एवं सुगम सुचारू पठन पाठन हेतु वर्ष भर प्रयासरत रहती है. इसी के साथ परिषद समय समय पर समाज एवं राष्ट्र हित से जुड़े मुद्दे भी उठाती आ रही है.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का यह स्पष्ट मत है कि कोरोना वायरस महामारी के पश्चात विश्वविद्यालय परिसरों को सुचारू पठन पाठन हेतु छात्रों के लिए अविलम्ब खोला जाना चाहिए.

इसी क्रम में उत्तर प्रदेश समेत देश के विभिन्न राज्यो में कोरोना वायरस महामारी के पश्चात सुधरती स्थिति को देखते हुए दिनांक 07/02/2022 को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय इकाई द्वारा विश्वविद्यालय को पुनः ऑफलाइन पठन-पाठन हेतु खोले जाने की मांग विश्वविद्यालय प्रशासन से की गई. परन्तु देश के अन्य विश्वविद्यालय खोले जाने की प्रक्रिया शुरू हो जाने के बावजूद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा अभी तक विश्वविद्यालय को खोले जाने हेतु कोई निर्णय नहीं लिया गया है.

इस स्थिति में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय इकाई द्वारा दिनांक 07/02/2022 की दोपहर से कुलपति आवास के समक्ष अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन शुरू किया गया है जो आज 08/02/2022 को भी जारी है.

हमारी प्रमुख माँग है कि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को विद्यार्थियों की ऑफलाइन कक्षाओं हेतु पूर्ण रुप से खोले जाने का निर्णय विश्वविद्यालय प्रशासन ले एवं इस सम्बंध में विद्यार्थियों को सूचित किया जाए जिससे उनका भविष्य में पठन पाठन प्रभावित न हो.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की मांगे समस्त छात्र समुदाय की मांगें हैं परन्तु विश्वविद्यालय प्रशासन इस पर अभी तक न तो कोई निर्णय ले पाया है न ही कोई लिखित आश्वासन देने की स्थिति में है.

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन के इस छात्र विरोधी रवैये के विरुद्ध एवं विश्वविद्यालय खुलवाने की मांग हेतु अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अनिश्चितकाल के लिए धरनारत है जो कि मांगो की पूर्ति होने तक जारी रहेगा.

आज छात्रों की आवाज़ को नजरअंदाज करने वाले विश्वविद्यालय प्रशासन के विरुद्ध मुँह पर काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन किया गया.

इस सम्बन्ध में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के इकाई अध्यक्ष अभय प्रताप ने कहा कि ” काशी हिन्दू विश्वविद्यालय समेत देश के तमाम विश्वविद्यालय कोरोना वायरस महामारी के कारण पिछले 2 वर्षों से आंशिक रूप से बंद हैं. वर्तमान समय में महामारी की स्थिति में सुधार होने पर देश के तमाम विश्वविद्यालयो को खोले जाने का निर्णय सम्बंधित विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा लिया जा रहा है. परन्तु देश के अग्रणी संस्थान होने के बावजूद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा अभी तक विश्वविद्यालय खोले जाने के सम्बंध में कोई निर्णय नहीं लिया गया. इस स्थिति से न सिर्फ विद्यार्थियों का नुकसान हो रहा है बल्कि विश्वविद्यालय के शैक्षणिक विकास में भी बाधा उतपन्न हो रही है।इस स्थिति में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय को पुनः खुलवाने हेतु धरनारत है जो मांगो के पूर्ण होने तक चलता रहेगा.”

इस दौरान इकाई मंत्री पुनीत मिश्र ने कहा कि “काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन के पास विद्यार्थियों की समस्याओं को सुनने का समय नहीं है. आज जब देशभर के विश्वविद्यालयों को खोला जा रहा है इस स्थिति में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रशासन के पास विश्वविद्यालय खोलने की कोई योजना नहीं है जो कि दुःखद स्थिति है।अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की स्पष्ट माँग है की काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को पुनः खोला जाए.”

धरना प्रदर्शन के दौरान कड़ाके की ठंड में भी छात्र डटे रहे.प्रदर्शन के दौरान सौरभ राय,अधोक्षज ,आदित्य वर्धन,सत्य नारायण,शिवेंद्र, वैभव मीणा,राणा प्रताप जी आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *