“एक युवा शक्ति कलाम तो दूसरी आतंकवादी भी बनाती है” BHU में युवा शक्ति एवं राष्ट्र निर्माण शीर्षक कार्यक्रम में बोले दयाशंकर सिंह

वाराणसी. काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के स्वतंत्रता भवन के सीनेट हॉल में बुधवार को आजादी के अमृत महोत्सव व्याख्यान श्रृंखला की तीसरी कड़ी में “युवा शक्ति एवं राष्ट्र निर्माण : वर्तमान से भविष्य की ओर” नामक शीर्षक पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह, मुख्य वक्ता रामकथा मर्मज्ञ आचार्य शांतनु और विशिष्ट अतिथि पद्मश्री चन्द्रशेखर सिंह रहे. दयाशंकर जी ने युवाओं के लिए सरकार द्वारा किये गए कार्यों के बारे में बताया.वहीं आचार्य शांतनु ने युवा एवं राष्ट्र के सही अर्थ के बारे में बताया साथ ही देश के आंतरिक चुनौतियों से निपटने में युवाओं की महती भूमिका की चर्चा की.

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश का आधुनिक के साथ आध्यात्मिक विकास तेजी से हो रहा है. उन्होंने कहा कि युवाओं के पास असीमित शक्ति है. इसमें जरूरी यह है कि इसे किस दिशा में यूज किया जा रहा है. एक शक्ति अब्दुल कलाम के पास थी, तो दूसरी उस युवा के पास भी है जो आतंकवादी है. युवा तुलसीदास ने रामचरित मानस 500 वर्ष पहले रचा. जो यूनिवर्सल प्रासंगिक है.उन्हें प्रेरणा उनकी पत्नि से मिली. यही नहीं, सूर्य की पृथ्वी से दूरी भी लिख दी. युवा महामना ने बीएचयू की स्थापना की, जिसने राष्ट्र निर्माण में लाखों टैलेंटेड युवाओं को तैयार किया. गुरु गोलवलकर भी यहीं से निकले. उनसे प्रेरित होकर आज हमारे प्रधानमंत्री भी देश की उन्नति में लगे हैं. कोरोना काल में भारत ने दुनिया को दिशा दी. नमस्ते सीखा, स्नान कर घर मे प्रवेश करना सीखा, तुलसी को नमन किया. मंच की अध्यक्षता कर रहे प्रो. विवेक सिंह ने कहा कि बीएचयू का कुलगीत युवा के लिए सबसे बड़ा प्रेरणास्रोत है.चाणक्य नीति कहता है कि ज्ञान के समान कोई शक्ति नहीं. इसके लिए बहुत त्याग करना पड़ता है.विवेकानंद जी ने कहा था, विश्व एक व्यायामशाला है.यहां हमें खुद को मजबूत बनाना है.

कार्यकम में विभिन्न संकायों के शिक्षक एवं छात्रों ने सहभागिता की. प्रमुख रूप से प्रो. एस. पी. सिंह, प्रो. तेज प्रताप सिंह, डॉ शरद धर शर्मा, डॉ पंकज कुमार प्रेम, डॉ महेश राय, डॉ शत्रुघ्न मिश्रा, राणा प्रताप सिंह, अभय प्रताप सिंह, साक्षी सिंह एवं डॉ भानुप्रताप सिंह,नूर,शेराना, सन्ध्या,त्रिशला,दिव्या आदि उपस्थित रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.