गर्व के 75 वर्ष: “आजादी कुछ इस तरह मनाएं कि हम एक दूसरे के काम आएं” रक्त दान कर अमृत महोत्सव मना रहा काशी का ‘आद्या काशी फाउंडेशन’

देश में आजादी का अमृत महोत्सव पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है. हर व्यक्ति इसे अपने तरीके से मनाने में लगा हुआ है. कोई घरों पर तिरंगा लहरा कर देशभक्ति दिखा रहा, तो कोई गरीबों की मदद करके. ऐसे में आद्या काशी फाउंडेशन के सदस्यों ने अमृत महोत्सव मनाने का नया तरीका अपनाया है.आद्या काशी फाउंडेशन के ओर से रविवार को लंका स्थित ट्रामा सेंटर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. जिसमें संस्था के सभी सदस्यों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया.

रक्तदान शिविर में आद्या काशी फाउंडेशन की फाउंडर नेहा दुबे ने बताया कि यहां प्रतिदिन हजारों घायलों का इलाज होता है. यहां ऐसे कई मरीज होते हैं जिन्हें अक्सर रक्त की आवश्यकता पड़ती रहती है. इस लिए इस वर्ष की आजादी कुछ इस तरह मनाएं कि हम एक दूसरे के काम आए. किसी भी मरीज के परिजनों को रक्त के लिए इधर उधर भटकना न पड़े.

रक्त दान करने वालों में टीम से फाउंडर नेहा दुबे, ट्रस्टी डॉ० रवि रंजन शर्मा, डॉ० गुरुवचन, देव सिंह, यश ओझा, रूबी, भावना, अम्बर, दीपक, अंजनी, निखिल, अजय, आदित्य ने रक्तदान कर लोगों को आजादी का संदेश दिया.

शिक्षा और स्वास्थ्य पर पूरा फोकस

बता दें कि आद्या काशी फाउंडेशन पिछले कई वर्षों में काशी में शिक्षा और स्वास्थ्य पर काम कर रहा है. संस्था द्वारा मलिन बस्तियों में गरीब बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा के साथ ही उन्हें शिक्षा सामग्री भी उपलब्ध कराई जाती है. इसके साथ ही पूर्वांचल के किसी भी अस्पताल में किसी मरीज को रक्त की आवश्यकता पड़ने पर यह संस्था उन्हें तत्काल रक्त भी उपलब्ध कराती है.