पूर्वोत्तर रेलवे में 73 गणतंत्र दिवस “समारोह समिति दिवस” के रूप में मनाया गया

वाराणसी .पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल पर 73 वाँ गणतंत्र दिवस समारोह सीमित रूप में मनाया गया . इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक श्री रामाश्रय पाण्डेय ने पूर्वोत्तर रेलवे मिनी स्टेडियम,लहरतारा में आयोजित समारोह में ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली . समारोह में रेलवे सुरक्षा बल , सेंट जान्स एम्बुलेंस , मंडल कला समिति तथा पूर्वोत्तर रेलवे भारत स्काउट एण्ड गाइड जिला संघ की टुकड़ियों ने भाग लिया. इस अवसर पर अपर मंडल रेल प्रबंधक(प्रशासन) श्री राहुल श्रीवास्तव, अपर मंडल रेल प्रबंधक(परिचालन)श्री एस पी एस यादव,अपर मंडल रेल प्रबंधक(इंफ्रा)श्री ज्ञानेश त्रिपाठी, मंडल महिला कल्याण संगठन की अध्यक्षा श्रीमती सुजाता पाण्डेय समेत सभी शाखाधिकारी एवं भारी संख्या में रेलवे कर्मचारी उपस्थित थे.

परेड की सलामी के पश्चात मंडल रेल प्रबंधक श्री रामाश्रय पाण्डेय ने 73वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर सभी को शुभकामनायें देते हुए कहा की हमारा देश आज से 72 वर्ष पूर्व गणतंत्र घोषित हुआ था. आज का दिन हम सभी को अपने संविधान के प्रति निष्ठा व्यक्त करने की प्रेरणा देता है. इस राष्ट्रीय पर्व पर मैं सीमा पर तैनात सेना एवं सुरक्षा बल के जवानों के पराक्रम एवं कर्तव्यनिष्ठा की सराहना करता हूँ जो विषम परिस्थितियों में भी देश की एकता एवं अखण्डता को बनाये रखने में अपना अतुलनीय योगदान दे रहे हैं.

आज हम सभी यहां बेहद खास अवसर पर 73वां गणतंत्र दिवस मनाने इकट्ठा हुए हैं. भारत के लिए गणतंत्र दिवस केवल एक पर्व नहीं, बल्कि गौरव और सम्मान है. यह दिवस हर भारतीय का अभिमान है, अनगिनत लोगों की कुर्बानी के बाद भारत मां को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली थी, लेकिन उसे स्वतंत्रता का आकार 26 जनवरी 1950 को मिला, क्योंकि इसी दिन हमारा संविधान लागू हुआ था.

‘गणतंत्र’ का अर्थ है- देश में रहने वाले लोगों की सर्वोच्च शक्ति और सही दिशा में देश के नेतृत्व के लिए राजनीतिक नेता के रूप में अपने प्रतिनिधि को चुनने के लिए केवल जनता के पास अधिकार है. इसलिए भारत एक गणतंत्र देश है, जहां आम जनता अपना नेता, प्रधानमंत्री के रूप में चुनती है. भारत में पूर्ण स्वराज के लिए हमारे महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने बहुत संघर्ष किया. उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दी जिससे कि हमारी आने वाली पीढ़ी को कोई संघर्ष न करना पड़े और हम देश को आगे लेकर जा सकें.

पूर्वोत्तर रेलवे का वाराणसी मंडल अपने के 204 स्टेशनों के माध्यम से यात्रियों को सुरक्षित, संरक्षित एवं आरामदायक यात्रा सुविधा उपलब्ध करा रहा है. हम पूर्वोत्तर रेलवे की आधारभूत संरचना एवं कार्यप्रणाली का आधुनिकीकरण कर यात्रियों को बेहतर एवं द्रुतगामी सुविधा प्रदान के लिये निरन्तर प्रयासरत हैं. कोरोना संक्रमण से उत्पन्न प्रतिकूल परिस्थितियों में भी हमारे रेलकर्मियों ने देश सेवा में अतुलनीय योगदान दिया है.वर्ष 2021-22 में पूर्वोत्तर रेलवे ने हर क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति की है. ये उपलब्धियों पूर्वोत्तर रेलवे के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के संयुक्त प्रयासों का परिणाम है, जिसके लिये आप सभी बधाई के पात्र हैं.

आधारभूत संरचना के विकास के क्षेत्र में :-

औड़िहार – जौनपुर दोहरीकरण परियोजना के अन्तर्गत औड़िहार – डोभी खण्ड का दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण के साथ पूरा कर यात्री यातायात हेतु खोल दिया गया है. मऊ – आजमगढ़ तथा शाहगंज – आजमगढ़ खण्डों का विद्युतीकरण पूरा किया गया.बलिया- फेफना का दोहरीकरण तथा माधोसिंह – ज्ञानपुर रोड का दोहरीकरण किया गया . नंदगंज – गाजीपुर सिटी का दोहरीकरण पूरा किया . वाराणसी मंडल पर एक नया गुड्ड्स शेड फेफना में खोला गया .औड़िहार – डोभी के 20 किमी लम्बे ब्लाक खण्ड में स्थित दुधौंड़ा हाल्ट पर आई.बी.एस. की स्थापना की गई है . पैदल उपरिगामी पुल के निर्माण हेतु हरदतपुर, भुल्लनपुर, कटका, बहेरवाँ हाल्ट, बकुलहाँ, मांझी, निगतपुर एवं चितबडागाँव स्टेशनों पर पहले पैदल उपरिगामी पुल तथा बलिया स्टेशन पर दूसरे पैदल उपरिगामी पुल के लिए गर्डर लांचिंग की गई. मंडल के आंकुशपुर, बांसडीह, रेवती, बनकटा, चैनवाँ, मोहम्मदाबाद, तराँव एवं मांझी हाल्ट स्टेशनों के प्लेटफार्मों के विस्तार एवं उच्चीकरण किया गया. मंडल में समपारों के सड़क वाहनों के धक्के से टूटने/विफलताओं के दौरान रिस्टोरेशन की अवधि को शून्य स्तर तक सुनिश्चित करने हेतु कुल 67 समपारों पर स्लाइडर बूम का प्रावधान किया गया है .

आय के क्षेत्र में :-

वर्तमान वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक 1.63 करोड़ यात्रियों ने यात्रा की, जो गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 420.38 प्रतिशत अधिक है. वर्तमान वित्त वर्ष में यात्री यातायात से रू0 511.76 करोड़ की आय हुई, जो गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 220.44 प्रतिशत अधिक है. वर्तमान वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक माल यातायात से रू० 71.63 करोड़ की आय हुई, जो गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 125.81 प्रतिशत अधिक है.

इस वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक बिना टिकट / अनियमित बिना बुक किये सामान के मामले पकड़े गये यात्रियों से कुल रू0 19.97 करोड़ रेल राजस्व की प्राप्ति हुई। वर्तमान वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक सकल राजस्व (ग्रास रेवेन्यू) के रूप में रू० 626.13 करोड़ की प्राप्ति हुई, जिसमें से रू0 550.96 करोड़ कोचिंग से, रू0 71.63 करोड़ माल यातायात से तथा रू0 3.53 करोड़ सण्ड्री आय से प्राप्त हुये .

गाड़ियों के संचलन क्षमता के क्षेत्र में :-

गाड़ी सं० 18181 / 18182 टाटा-छपरा एक्सप्रेस का मार्ग विस्तार थावे तक तथा गाड़ी सं० 12165 / 12166 लोकमान्य तिलक टर्मिनस – बनारस त्रैसाप्ताहिक एक्सप्रेस का मार्ग विस्तार गोरखपुर तक किया गया . इस वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक गाड़ियों का समय पालन 93.86 प्रतिशत रहा. इस वर्ष माह दिसम्बर, 2021 तक मालगाड़ियों की औसत गति सुधरकर 52 किमी प्रति घंटा रही जो पिछले वर्ष की तुलना में 23.02% अधिक है. वर्तमान वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक 195 स्पेशल / पूजा / ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ियाँ 1372 ट्रिपों में चलाई गईं. विभिन्न गाड़ियों में स्थाई रूप से 11 अतिरिक्त कोच एवं अस्थाई रूप से 669 अतिरिक्त कोच लगाये गये पूर्वोत्तर रेलवे से वर्तमान में आधुनिक तकनीकयुक्त कुल 18 जोड़ी गाड़ियाँ एल.एच.बी. कोचों से चलाई जा रही हैं.

यात्री सुविधा के क्षेत्र में :-

बलिया स्टेशन पर 02 स्कैलेटरों एवं छपरा स्टेशन पर 02 लिफ्ट लगाने का कार्य पूरा किया गया. यात्रियों की सुविधा के लिये 07 स्टेशनों – बलिया, वाराणसी सिटी, फेफना, आँकुशपुर, रेवती, बांसडीह रोड एवं मांझी पर इस वर्ष पैदल उपरिगामी पुल का निर्माण किया गया. इस वर्ष 14 स्टेशनों पर उच्च तल प्लेटफार्म के निर्माण एवं विस्तार का कार्य पूरा किया गया . करीमुद्दीनपुर स्टेशन को आदर्श स्टेशन के रूप में विकसित किये जाने के क्रम में सरकुलेटिंग एरिया एवं फसाड़ इम्प्रूवमेंट का कार्य पूरा किया गया . मंडल के मसरख, सिधवलिया, गोपालगंज एवं रतनसराय स्टेशनों पर दिव्यांग यात्रियों की सुविधा हेतु दिव्यांग शौचालय एवं वाटर बूथ का निर्माण किया गया. वी.एस.एस. प्रोजेक्ट के अंतर्गत मण्डल के कुल 7 स्टेशनों- देवरिया सदर, सीवान जं०, मऊ ज०, आजमगढ़, बेल्थरा रोड, बलिया तथा छपरा जं० स्टेशन पर सर्विलान्स हेतु 40-40 सीसीटीवी कैमरों का प्रावधान किया गया है. यात्री सुविधा के उत्तरोत्तर विस्तार के कार्यों के अंतर्गत मण्डल के आजमगढ़, बेल्थरा रोड तथा बनारस स्टेशनों के बचे प्लेटफार्म नं0 4 तथा 5 पर कोच गाइडेंस सिस्टम का प्रावधान किया गया है. बनारस स्टेशन के द्वितीय प्रवेश द्वार पर दस लाइनों का ट्रेन इंडीकेशन बोर्ड लगाया गया है, जिस पर गाड़ियों के आगमन/प्रस्थान की सूचना तथा विज्ञापनों का प्रसारण किया जा रहा है. बनारस स्टेशन के सभी आठ प्लेटफार्मों पर “आन लाइन ट्रेन चार्टिंग डिस्प्ले बोर्ड” का प्रावधान किया गया है. छपरा स्टेशन पर 02 अदद लिफ्ट एवं बलिया स्टेशन पर एक जोड़ी स्वचालित सीढ़ियों का प्रावधान कर यात्रियों के उपयोग हेतु चालू किया गया. मंडल के बेल्थरा रोड स्टेशन पर फ़ाइव लाइन तथा सिंगल लाइन ट्रेन इंडिकेशन बोर्ड का प्रावधान किया गया है. मण्डल के बचे दो स्टेशनों एकमा एवं डोभी स्टेशन पर टाटा फाउंडेशन के सहयोग से यात्रियों के लिए फ्री वाई-फ़ाई की सुविधा का प्रावधान किया गया है. इस प्रकार मण्डल के सभी 120 स्टेशनों पर यात्रियों के उपभोग हेतु फ्री वाई-फ़ाई की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है.

संरक्षा के क्षेत्र में :-

मंडल के बड़ी लाइन पर स्थित सभी अमानवित समपारों को समाप्त किया जा चुका है तथा मानवित समपारों को विभिन्न तरीकों से बन्द किया जा रहा है. वर्तमान वित्त वर्ष में 3 सड़क उपरिगामी पुल तथा 4 सड़क LHS का निर्माण किया गया तथा 25 मानवित समपारों को बन्द कर दिया गया है। संरक्षा को सुदृढ़ करने हेतु वर्तमान वित्त वर्ष में 09 समपारों के इन्टरलॉक्ड लक्ष्य के सापेक्ष अब तक 07 समपारों को इन्टरलॉक्ड किया जा चुका है. 27 समपारों पर इलेक्ट्रिक लिफ्टिंग बैरियर एवं 67 समपारों पर स्लाइडिंग बूम का प्रावधान किया गया है. संरक्षा हेतु 48 किमी. टी.आर.आर. एवं 77.52 किमी. रेलवे ट्रैक की डीप स्क्रीनिंग, 64 टर्नआउट रिन्यूवल तथा 27 किमी. पी.एस.सी. स्लीपर रिन्यूवल का कार्य किया गया. इसके साथ ही एक स्थाई गति प्रतिबन्ध को भी हटाया गया .

स्वच्छता एवं पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में :-

मैकेनाइज्ड कोच क्लीनिंग के अन्तर्गत गाड़ियों की साफ-सफाई एवं धुलाई का कार्य पिट लाइन पर गुणवत्तापूर्ण ढंग से 02 कोचिंग डिपो में संविदा के तहत किया जा रहा है. कोचिंग डिपो/ बनारस एवं छपरा में वर्तमान वित्त वर्ष में ऑटोमेटिक कोच वाशिंग प्लान्ट के शुरू हो जाने से सवारी यानों की बाह्य सफाई की गुणवत्ता में सुधार हुआ है. ओ.बी.एच.एस. के तहत 03 स्टेशनों से 09 गाड़ियों में साफ-सफाई का कार्य संविदा के तहत किया जा रहा है. मंडल से चलने वाली सभी मेल / एक्सप्रेस गाड़ियों में इको फ्रेंडली बायो-वैक्यूम ग्रीन ट्वायलेट लगाये जा चुके हैं तथा सवारी यानों के शौचालयों की बेहतर साफ-सफाई हेतु प्रेशराइज्ड फ्लशिंग सिस्टम लगाये जा रहे हैं. पूर्वोत्तर रेलवे पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एन.जी.टी.) के अन्तर्गत आने वाले सभी 12 स्टेशनों को आई.एस.ओ. 14001 तथा एनर्जी आडिट एवं वाटर आडिट पूर्ण हो जाने के उपरान्त राज्य प्रदूषण कन्ट्रोल बोर्ड (एस.पी.सी.बी.) द्वारा सी.टी.ओ. प्रदान किया गया है. इस वर्ष वृक्षारोपण कार्यक्रम के अन्तर्गत कुल 147529 वृक्ष लगाये गये. स्वच्छ भारत मिशन के तहत रेल परिसरों तथा रेल पटरियों के किनारे पड़े हुये अवांछित एवं निष्प्रयोज्य इमारतों एवं विभिन्न स्तर के आवासों को चिन्हित कर उनका निरस्तारण किया गया.

ऊर्जा संरक्षण :-

गैर पारम्परिक ऊर्जा स्रोत के रूप में सोलर प्लांट, सोलर पम्प, सोलर गीजर, स्ट्रीट लाइट का प्रयोग बड़े पैमाने पर किया जा रहा है, साथ ही स्टार रेटेड विद्युत उपकरणों के प्रयोग को प्राथमिकता दी जा रही है. फलस्वरूप नान ट्रैक्शन विद्युत ऊर्जा की खपत में कमी आयी है. ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में सराहनीय योगदान को देखते हुये परिवहन क्षेत्र में पूर्वोत्तर रेलवे को ‘राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार 2021″ का प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है.

सुरक्षा के क्षेत्र में :

रेलवे सुरक्षा बल श्वान शाखा (Dog Kennel) बनारस के नये भवन का निर्माण किया गया जो मंडल के स्टेशनों पर वी आई पी मूवमेंट एवं आयोजनों की सुरक्षा हेतु बड़ा कदम है. वर्तमान वित्त वर्ष में माह दिसम्बर, 2021 तक आरक्षण दलालों के विरूद्ध विशेष अभियान चलाकर 97 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया तथा 81 मामले दर्ज करते हुए दोषियों के विरुद्ध विधिक कार्यवाही की गई. रेल परिसर एवं रेलगाड़ियों को अवैध वेंडिंग / किन्नरों से मुक्त कराने हेतु चलाये जा रहे विशेष अभियान के अन्तर्गत 694 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर 705 मामले दर्ज किये गये. दोषी पाए गये 18 व्यक्तियों को जेल भेजा गया जबकि अन्य पर रू0 2860861 /- का जुर्माना लगाया गया . रेलवे सुरक्षा बल द्वारा बिना किसी उचित एवं पर्याप्त कारणों के एलार्म चेनपुलिंग के दुरूपयोग करने वाले 874 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया तथा इन व्यक्तियों पर रू० 710648 /- का जुर्माना लगाया गया .वाराणसी मण्डल के श्री आदित्य प्रकाश सिंह, सहायक उप निरीक्षक , रेलवे सुरक्षा बल को ईमानदारी एवं कर्तव्यनिष्ठा के लिए (Indian P police Medal )भारतीय पुलिस पदक से सम्मानित किया जाना वाराणसी मंडल के लिए गर्व का विषय है.

कर्मचारी कल्याण के क्षेत्र में:

वाराणसी मण्डल में कार्यरत सभी कर्मचारियों के सेवा अभिलेख को HRMS Portal पर अपलोड कराया गया. सभी कर्मचारियों को ऑनलाईन पास/पीटीओ जारी किये जाने तथा भविष्य निधि व समापक भुगतान ऑनलाईन HRMS के माध्यम से किया जा रहा है. इसके साथ ही मण्डल में ऑनलाईन PRAN Generation की प्रक्रिया की शुरुआत की गई जिससे कर्मचारियों को 02 दिनों के भीतर PRAN No. मिलना सुनिश्चित किया गया. अनुकम्पा के आधार पर मण्डल में कुल 88 नियुक्तियाँ की गई. इसके अतिरिक्त निर्धारित समयावधि में कुल 599 कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ प्रदान किया गया. SBF के अन्तर्गत कर्मचारियों के बच्चों को उच्च तकनीकी शिक्षा हेतु रु. 10 लाख 80 हजार छात्रवृति के तौर पर प्रदान किया गया. लम्बी बीमारी से ग्रसित कर्मचारियों को रु. 05 लाख 20 हजार की सहायता राशि प्रदान की गई. वर्तमान में COVID-19 से बचाव हेतु आयुर्वेदिक काढ़ा एवं मास्क का वितरण कर्मचारियों में किया गया जिससे COVID-19 महामारी के संक्रमण से कर्मचारियों को बचाया जा सके. पूर्वोत्तर रेलवे पर सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों का समापक भुगतान माह जुलाई से एच.आर.एम.एस. पोर्टल द्वारा किया जा रहा है. सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिये 15 दिसम्बर, 2021 को आयोजित पेंशन अदालत में लगभग रू० 26 लाख का भुगतान किया गया. IRWCMS को सफलता पूर्वक लागू करने से कॉन्ट्रैक्ट मनेजमेंट पूर्णतः पारदर्शी हो गया है. मंडल के सभी कर्मचारियों का APAR लेखन HRMS के माध्यम से प्रारम्भ कर दिया गया है .

चिकित्सा के क्षेत्र में :

मंडल चिकित्सालय/ वाराणसी में एच.एम.आई.एस. प्रारम्भ किया गया. मण्डलीय चिकित्सालय, वाराणसी में 250 लीटर प्रति मिनट क्षमता का ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया. वाराणसी मंडल पर आयोजित कोविड वैक्सीन कैम्पों में अभी तक कुल 50000 रेलकर्मियों एवं उनके आश्रितों का टीकाकरण किया गया. इसके साथ ही साथ भारी संख्या में सामान्य नागरिकों का भी टीकाकरण किया गया. इस अवसर पर मंडल कला समिति द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतिकरण एवं भारत स्काउट एण्ड गाइड जिला संघ के स्काउट एण्ड गाइडों ने कोरोना से बचाव पर नुक्कड़ नाटक का मंचन कर उपस्थित कर्मचारियों को कोविड अप्रोप्रियेट बिहेवियर अपनाने हेतु जागरूक किया .गणतंत्र दिवस के अवसर पर आयोजित परेड में शामिल प्रत्येक टुकड़ी यथा रेलवे सुरक्षा बल, स्काउट गाइड जिला संघ तथा मंडल कला समिति को मंडल रेल प्रबंधक ने नगद पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की ।कार्यक्रम का कुशल संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी श्री समीर पॉल ने किया .

Leave a Reply

Your email address will not be published.