UPTET 2021 : पेपर लीक होने से परीक्षा स्थगित, जांच में जुटी STF

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 (यूपी-टीईटी) की परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है. पेपर लीक की आशंका में उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा निरस्त एसटीएस की सूचना पर परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने दोनों पारियों की परीक्षा को निरस्त करने का निर्णय ले लिया है.सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय कुमार उपाध्याय ने बताया कि दोनों पारियों की परीक्षाएं निरस्त कर दी गई हैं.

टीईटी 2021 परीक्षा रविवार को दो पालियों में होनी थी. प्रदेश भर में प्रथम पाली में दस से साढ़े बारह बजे तक 2554 केंद्रों पर प्राथमिक स्तर की परीक्षा का आयोजन किया जाना था और द्वितीय पाली में 2:30 से पांच बजे तक 1754 केंद्रों पर उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा का आयोजन होना था. उल्लेखनीय है कि टीईटी प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 13.52 लाख और टीईटी उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 8.93 लाख अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. इससे पहले 2019 में आयोजित हुई यूपीटेट में 16 लाख और 2018 में आयोजित हुई इस परीक्षा में तकरीबन 11 लाख अभ्यर्थियों ने भा लिया था.टीईटी परीक्षा में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में अभ्यर्थी भाग लेने जा रहे थे.

टीईटी पर्चा लीक में एसटीएफ ने शामली में तीन आरोपी पकड़े गए हैं.मथुरा में भी दबिश. प्राप्त जानकारी के अनुसार पेपर रात को वायरल हवा था और ग्रुप बना कर परीक्षा की तैयारी कराई जा रही थी. गाजियाबाद मेरठ समेत वेस्ट यूपी के कई जिलों में पर्चा हो रहा था वायरल.

मुरादाबाद में UP TET परीक्षा रद्द होने के बाद परीक्षा केंद्रों के बाहर भीड़ नियंत्रण के लिए फोर्स तैनात किया गया. कटघर सीओ आशुतोष तिवारी ने इस बात की पुष्टि की है.

वाराणसी में भी पहली पारी में 89 सेंटर और दूसरी पाली में 64 सेंटर पर परीक्षा होनी थी. परीक्षा को देखते हुए शहर में सुबह से ही काफी भीड़ होने लगी है. पूर्वांचल के कई जिलों से परीक्षा देने के लिए अभ्यर्थी वाराणसी पहुंचे हैं, पर परीक्षा अचानक स्थगित होने से अभ्यर्थियों में निराशा है.

एक महीने के अंदर किया जाएगा परीक्षा का आयोजन

समाचार एजेंसी एएनआई यूपी से प्राप्त जानकारी के अनुसार एडीजी लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने बताया है कि पेपर लीक होने की वजह से टीईटी परीक्षा को स्थगित किया जा रहा है. टीईटी पर्चा लीक में एसटीएफ ने कई आरोपियों को पकड़ लिया है और कारवाई चल रही है. प्रशांत कुमार ने आगे बताया कि यूपी सरकार एक महीने के अंदर ही यूपी टीईटी परीक्षा का आयोजन करवाएगी.

यूपी टीईटी परीक्षा पेपर लीक होने की वजह से छात्र परेशान हुए. इस मामले में एसटीफ ने प्रदेश भर में कई जगह छापेमारी की है. कई लोग हिरासत में लिए गए हैं. पेपर शुरू होने से पहले मथुरा,गाजियाबाद बुलंदशहर के व्हाट्सएप ग्रुप पर वायरल हुआ था पेपर. गाजियाबाद में परीक्षा शुरू होने के 1 घंटे बाद करीब 11:30 बजे पेपर के बीच सभी अभ्यर्थियों से वापस ले ली गई कॉपी और पेपर.पहली पारी वाले अभ्यर्थी परेशान होकर लौट रहे हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार एक महीने बाद दोबारा परीक्षा का आयोजन किया जाएगा और अभ्यर्थियों को दोबारा कोई भी फीस नहीं देनी होगी .

UPTET परीक्षा के पेपर लीक होने की सूचना मिली है. इसलिए दोनों पालियों की परीक्षा तत्काल प्रभाव से निरस्त की जा रही है. एक महीने के भीतर परीक्षार्थियों से बिना कोई शुल्क लिए पुन: परीक्षा कराई जाएगी.यूपी STF को जांच सौंपी गई है: राज्य के बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी

उत्तर प्रदेश के अलग-अलग इलाकों से हमने अब तक 23 लोगों को गिरफ़्तार किया है। इनके पास से परीक्षा पत्र की फोटोकॉपी मिली है। परीक्षा को एक महीने के अंदर फिर से कराई जाएगी: UPTET परीक्षा का पेपर लीक होने के बाद रद्द किए जाने पर प्रशांत कुमार,ADG(क़ानून-व्यवस्था), उत्तर प्रदेश

जो लोग पकड़े गए हैं उसमें कुछ लोग बिहार से हैं, जांच जारी है। परीक्षार्थियों से परिवहन में कोई पैसे नहीं लिए जाएंगे। बच्चे एडमिट कार्ड दिखाकर परीक्षा केंद्र तक पहुंच सकते हैं उनसे पैसे नहीं लिए जाएंगे: UPTET प्रश्नपत्र लीक पर प्रशांत कुमार, ADG(क़ानून-व्यवस्था), उत्तर प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published.