‘स्कूल बंद’ का सेंट्रल पब्लिक स्कूल पर कोई नहीं दिख रहा असर, सुचारू रूप से चल रहे ऑनलाइन क्लास

यूपी समेत पूरा देश एवं विश्व के कई देश वर्तमान में कोविड – 19 जैसी महामारी से जूझ रहे हैं. विश्व के कई बड़े देश इस समय जहां 50 प्रतिशत भी टीकाकरण अभियान को नहीं छू पाए, वहीँ भारत ने 100 करोड़ से भी ज्यादा वैक्सीनेशन का आंकड़ा कब का पार कर लिया है. लेकिन वर्तमान में समूचे विश्व में जो हालात बन रहे हैं, उनमें सबसे गंभीर मुद्दा है – ‘स्कूल्स का बंद होना’.

यूपी में जहां 40% अर्थव्यवस्था शिक्षा पर निर्भर है. वहां शिक्षण संस्थान का बंद होना अपने आप में सवाल खड़ा करता है. यूपी में वाराणसी, प्रयागराज, लखनऊ और कानपूर जैसे बड़े शहर शिक्षा के प्रमुख केंद्र हैं. वहीँ इससे सटे कुछ जिलों जैसे चंदौली में 15-20 % की आबादी शिक्षा पर आश्रित है. ऐसे में स्कूल्स का बंद होना, स्थानीय लोगों के रोजी-रोजगार पर बड़ा संकट पैदा कर रहा है.

ऑनलाइन क्लास के अलावा नहीं है कोई विकल्प

अब जब सभी स्कूल्स कोविड जैसी महामारी के कारण बंद हैं, वहीँ चंदौली जिले में एक स्कूल ऐसा भी है. जिसपर इस संकट का कोई खास प्रभाव पड़ता नहीं दिख रहा है. हम बात कर रहे हैं, पीडीडीयू नगर (मुग़लसराय) स्थित सेंट्रल पब्लिक स्कूल की. जिले में यह एक ऐसा विद्यालय है, जहां स्कूल बंद होते ही टीचर्स ने ऑनलाइन क्लास लेना स्टार्ट कर दिया है.  

बच्चों का भविष्य बनाने में अभिभावकों का सपोर्ट ज़रूरी

विद्यालय के सीएमडी डॉ० विनय कुमार वर्मा ने इस संबंध में बताया कि हम पिछले 2 वर्षों से कोविड जैसी महामारी से जूझ रहे हैं. कभी स्कूल खुल जाते हैं, कभी महामारी के कारण बंद कर दिए जाते हैं. ऐसे में सुरक्षा और सतर्कता के साथ हम ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं. इसमें अभिभावकों का भी पूरा सपोर्ट मिल रहा है. उनके ही सपोर्ट से हम ऑनलाइन क्लास सुचारू रूप से चला पा रहे हैं. लेकिन कुछ अभिभावक अभी भी हैं जिनका सपोर्ट अभी भी नहीं मिल पा रहा है. हम उनसे भी आग्रह करते हैं कि वे ऑनलाइन क्लास का जारी रखने में हमारी मदद करें. जिसके कि महामारी के दौर में बच्चों के करियर पर कोई प्रभाव न पड़े. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.