UPTET-2021: HC का बड़ा फैसला, सर्टिफिकेट जारी करने पर रोक, सरकार से B.Ed उम्मीदवारों को लेकर मांगी गई जानकारी

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने UP-TET 2021 के प्रमाण पत्र जारी करने पर रोक लगा दी है. कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि B.Ed अभ्यर्थियों को प्राइमरी स्कूल में सहायक अध्यापक नियुक्त करने के संबंध में क्या NCTE ने कोई नई अधिसूचना जारी की है या नहीं? इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर B.Ed अभ्यर्थियों को प्राइमरी स्कूलों में सहायक अध्यापक नियुक्त करने पर रोक लगाने की मांग की गई है. इस मामले की सुनवाई करते हुए शुक्रवार को यह आदेश जस्टिस सिद्धार्थ ने प्रतीक मिश्र व अन्य की याचिका पर दिया है.

इस मामले की अगली सुनवाई 16 मई को

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 23 जनवरी 2022 को UP-TET परीक्षा में पास हुए अभ्यर्थियों को TET का प्रमाण पत्र जारी करने पर रोक लगा दी है. कोर्ट ने प्रतीक मिश्रा व चार अन्य की तरफ से दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए 16 मई 2022 की तिथि निर्धारित की है. इस याचिका में कहा गया है की राजस्थान हाईकोर्ट ने NCTE द्वारा 28 जून 2018 को जारी उस अधिसूचना को रद्द कर दिया है जिसमें कहा गया था कि प्राइमरी स्कूल के टीचरों के लिए B.Ed डिग्रीधारी भी मान्य माने जाएंगे.

यूपी सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर विचार नहीं कियायाचिका में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट द्वारा पारित 25 नवंबर 2021 के अधिसूचना रद्द करने के निर्णय पर विचार नहीं किया है. यह आदेश था कि 23 जनवरी 2022 को संपन्न हुई UP-TET परीक्षा का परिणाम 8 अप्रैल 2022 को घोषित किया जा चुका है. याची अभ्यर्थियों का कहना है कि सरकार इस परीक्षा में पास अभ्यर्थियों को TET का प्रमाण पत्र भी जारी करने जा रही है.

हाईकोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकारी वकील से पूछा कि क्या यूपी गवर्नमेंट ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले के बाद इस संबंध में कोई अधिसूचना जारी की है. हाईकोर्ट ने आदेश दिया है की 23 जनवरी 2022 को संपन्न हुई TET परीक्षा के आधार पर परीक्षा में पास अभ्यर्थियों को TET प्रमाण पत्र न दिया जाए. याचिकाकर्ता का कहना है कि TET परीक्षा में B.Ed डिग्री धारक भी बैठे हैं और वह प्राइमरी स्कूल में टीचर बनने के लिए योग्य नहीं है.

UP-TET से जुड़ी खास बातें

UP-TET के लिए कुल 21,65,179 उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया था. इनमें से 12,91,627 प्राइमरी लेवल और 8,73,552 अपर प्राइमरी लेवल के उम्मीदवार पंजीकृत थे, UP-TET​​​​​​​ पहले 28 नवंबर, 2021 को होनी थी, लेकिन पेपर लीक के कारण टाल दी गई. बाद में 23 जनवरी, 2022 को हुई. परीक्षा में 18,22,112 उम्मीदवार शामिल हुए, इनमें से 10,73,302 यानी 83.09% ने प्राइमरी लेवल की परीक्षा में भाग लिया था. जबकि 7,48,810 यानी 85.72% उम्मीदवारों ने अपर प्राइमरी लेवल की परीक्षा दी थी.