इस बार भी नहीं लेंगे वेतन मंत्री रवींद्र जायसवाल, CM राहत कोष में देने का किया फैसला

वाराणसी. उत्तर प्रदेश सरकार के स्टांप एवं न्यायालय पंजीयन शुल्क राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार रवींद्र जायसवाल ने अपने वेतन की धनराशि को जनता के क्लयाण के लिए मुख्यमंत्री पीड़ित राहत कोष में जमा करने का फैसला लिया है. इस संबंध में लिखित सहमति पत्र उन्होंने उत्तर प्रदेश के सचिवालय के अपर मुख्य सचिव को सौंप दिया है.

वाराणसी की शहर उत्तरी विधानसभा से लगातार तीसरी बार विधायक चुने गए रवींद्र जायवाल ने बताया कि वह अपने वेतन की धनराशि जनता के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री पीड़ित राहत कोष में जमा कराएंगे. मंत्री रवींद्र जायसवाल ने पत्र में लिखा है कि 18वीं विधानसभा (2022-2027) में लगातार तीसरी बार वाराणसी उत्तर विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा सदस्य के रूप में निर्वाचित हुआ हूं. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रिपरिषद में लगातार दूसरी बार मंत्री नियुक्त हुआ हूं.

उन्होंने आगे लिखा कि मैं अपने वेतन के मद में प्राप्त होने वाली राशि को पुनः जनकल्याण के लिए मुख्यमंत्री पीड़ित राहत कोष में जमा करने के लिए संकल्पित हूं. मंत्री रवींद्र जायसवाल ने बताया कि वह 16वीं विधानसभा (2012-2017) के सदस्य के रूप में वाराणसी उत्तर विधानसभा क्षेत्र से चुने गए थे.

17वीं विधानसभा (2017-2022) के सदस्य के रूप में वाराणसी उत्तर विधानसभा से वह दोबारा चुने गए. वर्ष 2019 में मंत्रिपरिषद में मंत्री नियुक्त होने के बाद भी उन्होंने जन कल्याण के लिए वेतन के मद में प्राप्त होने वाली धनराशि का त्याग कर दिया था. वेतन का पूरा पैसा उन्होंने मुख्यमंत्री पीड़ित राहत कोष में जमा करने के निर्देश दिए थे.