जान हथेली पर लेकर पड़ाव – पीडीडीयू नगर (मुग़लसराय) के इस प्रदूषण से गुजरती है आम पब्लिक, Air Quality Index अत्यंत ख़राब

दिल्ली के कई क्षेत्रों में प्रदूषण काफी तेजी से फ़ैल रहा है. कुछ दिनों पहले तो प्रदूषण के कारण स्कूल भी बंद करना पड़ गया था. लेकिन यूपी में एक जगह ऐसा भी है कि जहां बच्चे हों या बूढ़े सभी को प्रदूषण के बीच से गुजरना होता है. वह जगह है वाराणसी से सटा पीडीडीयू नगर का चंधासी कोयला मंडी. पड़ाव-पीडीडीयू नगर (मुग़लसराय) रोड पर पड़ने वाले इस कोयला मंडी से प्रतिदिन लाखों लोगों का आना जाना होता है. लेकिन लोग अपनी जान हथेली पर लेकर आते जाते हैं. हम जान हथेली पर लेकर चलने की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि बिना कुहरे के ही यहां पर धूल के वजह से हर समय कुहरे जैसा माहौल रहता है. जिससे एक्सीडेंट होने के चांस ज्यादा रहते हैं. साथ ही दमा और एलर्जी वाले लोगों के लिए भी यह धूल सबसे ज्यादा खतरनाक साबित होता रहा है. आए दिन लोग इसके वजह से बीमार होते रहते हैं. लोगों को मजबूरन इस रास्ते से होकर गुजरना पड़ता है. IQAIR की वेबसाइट के मुताबिक यहां का एयर लेवल का आंकड़ा बिल्कुल भी सही नहीं है. यहां का एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 161 पैमाने को छू रहा है. जबकि   भारत में यह आंकड़ा 0-50 के बीच नार्मल की श्रेणी में आता है.

आए दिन लोग पड़ते हैं बीमार

पड़ाव- पीडीडीयू स्टेशन के लिए यह मार्ग मुख्य मार्ग है. जहां लाखों लोगों का प्रतिदिन आवागमन होता है. लेकिन धूल और प्रदूषण के चलते लोग अक्सर बीमार पड़ते हैं. लोगों को होने वाली बीमारियों में दमा, एलर्जी, सांस सम्बन्धी समस्या आदि हैं. यहां आम पब्लिक के साथ ही यहां पर तैनात पुलिसकर्मी यहां नौकरी ही नहीं करना चाहते. एक पुलिसकर्मी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि हमलोग बहुत ही गंभीर जगह पर नौकरी कर रहे हैं. जहां हम कब बीमार पड़ जाएंगे. ये हम भी नही जानते. हम में से कई लोग आए दिन इस धूल के वजह से बीमार पड़ते रहते हैं.

बिना कुहरे के चंधासी में दिख रहा कुहरा

स्कूली बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा

चूंकि चंधासी और आस-पास के क्षेत्रों में अच्छे स्कूल न होने के वजह से अभिभावक अपने बच्चों को पढने के लिए पीडीडीयू नगर (मुग़लसराय) भेजते हैं. इसी धूल से होते हुए प्रतिदिन हजारों बच्चों का आवागमन होता है. इस धूल और प्रदूषण के वजह से हजारों बच्चों का सेहत प्रभावित होता है. इस धूल के वजह से बच्चों को कम उम्र में ही सांस सम्बन्धी समस्या होने लगती है. साथ ही उन्हें स्किन और बाल में भी प्रॉब्लम होने लगती है.

चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ० ओ० पी० सिंह ने द फ्रंट फेस इंडिया को बताया, “हमारे पास ऐसे कई केस आए हैं जिनमें धूल के वजह से बच्चों को सांस लेने में समस्या होती है. इलाज के बाद हमने उन्हें धूल भरे क्षेत्रों में न जाने की हिदायत दिया है. जिसके बाद अभिभावकों ने मजबूरन स्कूल से बच्चों का नाम तक कटवा लिया.”

सांसद, विधायक और चैयरमैन ने नहीं ली कभी सुध

चंधासी का यह क्षेत्र अरबों रुपए का व्यापार अपने में समेटे हुए है. लेकिन इसके बावजूद यहां के स्थानीय सांसद, विधायक और मुग़लसराय नगरपालिका के चैयरमैन के कानों में इस प्रदूषण को लेकर जूं तक नहीं रेंगती. एयर कंडीशनर गाड़ियों में बैठकर जाते समय शायद उन्हें इसका अंदाजा नहीं कि यह धूल आम जनता के लिए कितना खतरनाक है.

One thought on “जान हथेली पर लेकर पड़ाव – पीडीडीयू नगर (मुग़लसराय) के इस प्रदूषण से गुजरती है आम पब्लिक, Air Quality Index अत्यंत ख़राब

Leave a Reply

Your email address will not be published.