Rajsthan: रेप पीड़िता से SHO ने 15-20 बार किया बलात्कार, 4 पुलिसकर्मी निलंबित, FIR में भी हुआ हेरफेर

यूपी चुनाव में कांग्रेस ने लड़कियों की सुरक्षा का वादा किया था. उन्होंने महिलाओं के लिए नारा दिया था – ‘लड़की हूँ, लड़ सकती हूँ’. लेकिन राजस्थान में जहां उनकी सरकार है, वहां बलात्कार जैसे केस पर कांग्रेस नेता चुप्पी साधे रहते हैं. ताजा मामला राजस्थान के नागौर जिले का है. जहां SI ने महिला से दुष्कर्म किया और थानाधिकारी ने नशे में FIR तक नहीं किया. मामला सामने आने पर रविवार को एक SHO और 2 सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, नागौर के SP राममूर्ति जोशी ने इस कार्रवाई की पुष्टि की है. उन्होंने बताया, “28 अप्रैल, 2022 को अजमेर रेंज पुलिस ऑफिस में हाजिर हो कर खुनखुना थानाक्षेत्र की एक विवाहिता महिला ने अपने साथ रेप की शिकायत दर्ज करवाई थी. इस शिकायत पर 30 अप्रैल, 2022 को खुनखुना थाने में केस भी दर्ज हो गया. इस दौरान पाया गया कि अजमेर ऑफिस में दिए गए लिखित बयान का उल्लेख खुनखुना थाने में दर्ज FIR में था ही नहीं. इसे गंभीर लापरवाही मानते हुए SHO धर्मपाल मीणा के साथ और उसी थाने के HM क्राईम बंशी लाल, हेड कांस्टेबल ओम प्रकाश और कम्प्यूटर ऑपरेटर सुरेश को सस्पेंड कर दिया गया है.

रिपोर्ट के अनुसार, महिला द्वारा अगस्त 2021 में ही खुनखुना थाने के पूर्व SHO रह चुके सब इंस्पेक्टर शंभूदयाल मीणा के खिलाफ शिकायत दी गई थी. तब शिकायत में कहा गया था, “साल 2018 में जब मैं थाने पर एक शिकायत करने गई थी तब तत्कालीन SHO शंभूदयाल मीणा ने मेरा नंबर ले लिया था. बाद में सब इंस्पेक्टर शंभू दयाल ने मुझ से लगातार बातें की और एक दिन डीडवाना के एक होटल में बुला कर मेरा रेप किया. फिर मेरे मना करने के बाद भी SHO मीणा ने मुझ से 15-20 बार अलग-अलग समय पर रेप किया.” इस केस में बाद में आरोप लगानी वाले महिला और सब इंस्पेक्टर शंभूदयाल मीणा का समझौता हो गया था. यह समझौता टूटने के बाद महिला फिर से शिकायत करने थाने पहुँची थी.

इस शिकायत के बाद आरोपित पुलिसकर्मी का ट्रांसफर कोटा रेंज कर दिया गया था. डिप्टी SP गोगाराम ने बताया कि बाद में दरोगा शंभू ने बाद में महिला के साथ राजीनामा कर लिया था. कुछ समय बाद राजीनामे से मुकरने के बाद महिला फिर से शंभूदयाल पर केस दर्ज करवाने थाने पहुँची थी.