Lucknow: कहीं बुलडोजर संग मां की पूजा, तो कहीं धुनिची नृत्य पर झूमे श्रद्धालु, देखें Photos

देशभर में नवरात्रि और दशहरा की धूम है. सप्तमी तिथि पर सभी दुर्गा पूजा पंडालों के प्रवेश द्वार मां के दर्शनों के लिए आम जनता के लिए खोल दिए गए. इससे पूर्व शनिवार षष्ठी तिथि पर मंत्रोच्चार के साथ सायंकाल देवी का बोधन हुआ. जिसमें मां के विभिन्न स्वरूपों का ध्यान करते हुए उन्हें पूजा स्थल पर विराजमान होने का आमंत्रण दिया गया. इसके उपरान्त मां को शस्त्र धारण करवाए गए.

इसके बाद ही पूजा पंडालों में चार दिवसीय दुर्गा पूजा उत्सव शुरू हो गया. इस अवसर पर भक्तों ने पूजा पंडालों में विराजमान मां की भव्य प्रतिमा के सामने धुनुची नृत्य कर मां की आराधना की.

वैसे तो आपने मां को शंख, चक्र, गदा, पदम्, खड्ग आदि धारण करते हुए देखा होगा. लेकिन इस वर्ष पहली बार लखनऊ के कैंट क्षेत्र में लोगों ने बुलडोजर से मां आदिशक्ति की पूजा की. लोगों का मानना है कि बुलडोजर न्याय का प्रतीक है. ‘बुलडोजरास्त्र’ से मां कलयुग में विधर्मियों का विनाश करेंगी.

कैन्टोमेंट पूजा एवं सेवा समिति का यह बैनर सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है
मां दुर्गा संग अस्त्र स्वरुप बुलडोजर की भी पूजा की गई
सेवाग्राम की दुर्गापूजा में धुनिची डांस पर खूब झूमे भक्तगण
लखनऊ के बंगाली क्लब की इस मूर्ति को बनाने के लिए कारीगर एक वर्ष तक मेहनत करते हैं
चंद्रशेखर आजद पार्क स्थित गोमतीपार की सबसे पुरानी ट्रांसगोमती दुर्गापूजा
ट्रांसगोमती पंडाल के बाहर बंगाल से आए नृत्यकार एक से बढकर एक परफॉरमेंस देते हुए
विकास नगर स्थित सार्वजनिक दुर्गा पूजा समिति की प्रतिमा
शनिवार की शाम से ही पूजा पंडालों में मंत्रोच्चार व भजनों से माहौल भक्तिमय बना हुआ है