पटना विमेंस कॉलेज के बाहर इकोनॉमिक्स ग्रेजुएट युवती बेचती है चाय, जानें उसकी कहानी

पटना विमेंस कॉलेज के बाहर 24 साल की प्रियंका ने चायवाली नाम से चाय की दुकान खोल रखी है. कई लोग जो बेरोजगारी को मुद्दा बनाकर सरकार का विरोध करते हैं, इसके बजाय उन्होंने एक आत्मनिर्भर बिज़नेस वीमेन बनने का फैसला किया. इकोनॉमिक्स की डिग्री पूरी करने के बाद, उन्हें अच्छी नौकरी या सरकारी नौकरी भी नहीं मिल रही थी. प्रियंका पूर्णिया, बिहार की रहने वाली हैं. पिछले दो वर्षों से उसने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी की, लेकिन वह असफल रही. इसलिए, सभी सामाजिक परंपराओं को तोड़ते हुए उसने अपने लिए एक सेल्फ-स्टार्टर बनने का फैसला किया.

प्रियंका कहती हैं, “अगर मैंने बेरोजगारी को लेकर सरकार का विरोध किया होता तो क्या होता? केवल मेरा समय और ऊर्जा बर्बाद होगी. मुझे कुछ नहीं मिलेगा. मैंने वहां अपनी ऊर्जा बर्बाद करने के बजाय कुछ अलग करने का फैसला किया. मैं आत्म निर्भर बनना चाहती थी. इसलिए, मैंने यह रास्ता चुना.” पटना वीमेंस कॉलेज के बाहर उनकी दुकान “चायवाली” है, जो पान चाय और चॉकलेट चाय सहित चाय की बहुत ही नवीन शैलियों को परोसती है. उसके दुकान का स्लोगन भी कहता है, “आत्मनिर्भर भारत की ओर पहल. सोच मत, चालू कर दे बस.”

प्रियंका कहती हैं, ”मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती थी. इसलिए, मैंने यह दुकान शुरू करने का फैसला किया. एमबीए चायवाला यानि प्रफुल्ल बिलोर मेरी प्रेरणा हैं. मैं निश्चित रूप से अपना व्यवसाय चालू रखूंगी और मैं इसे बड़े स्तर पर ले जाकर सफल होना चाहती हूं.”