Varanasi: VDA ने काशी के इस मस्जिद का रंग रातों-रात कर दिया भगवा, मुस्लिमों के आपत्ति के बाद फिर से किया जा रहा पहले जैसा

काशी के सांसद काशी आने वाले हैं. साथ ही काशी को विश्वनाथ मंदिर के नए स्वरुप की अनुपम भेंट मिलने वाली है. वैसे तो काशी में विश्वनाथ मंदिर का इतिहास काफी पुराना है. लेकिन इसे नया स्वरुप देने का कार्य भाजपा सरकार ने किया है.

अब काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण से पहले ही इसे लेकर नया विवाद खड़ा हो गया है. दरअसल, बुलानाला स्थित एक मस्जिद जिसे ‘बुलानाला मस्जिद’ के नाम से जाना जाता है. VDA (वाराणसी विकास प्राधिकरण) ने उसका रंग रातों रात पेंट कराकर हल्का गेरुआ करा दिया. मस्जिद प्रबंधन या यूं कहिए कि एक विशेष वर्ग को इसके गेरुआ रंग से चिढ़ सी हो गई है. इनका कहना है कि बगैर पूछे VDA ने मनमानी की. मस्जिद का रंग रातों रात सफ़ेद से गेरुआ करा दिया. इससे माहौल बिगड़ सकता है.

रात में मस्जिद का सफ़ेद से हल्का गेरुआ कलर होते ही इसपर बवाल मचना शूरू हो गया. वाराणसी विकास प्राधिकरण के इस फैसले का विरोध होना शूरू हो गया. हालांकि विरोध को देखते हुए इसे फिर से सफ़ेद कराया जा रहा है. मस्जिद से जुड़े विशेष वर्ग ने इसपर काफी विरोध जताया है. साथ ही इसे प्राधिकरण का तानाशाह रवैया बताया. वाराणसी विकास प्राधिकरण ने इसपर कहा था कि वह एकरूपता लाने की कोशिश कर रहा है.

बता दें कि पीएम मोदी 13 दिसम्बर को काशी विश्वनाथ कॉरीडोर का उद्घाटन करने वाले हैं. ऐसे में काशी विश्वनाथ मंदिर के रास्ते में पड़ने वाले सभी इमारतों व घरों को बाहर से हल्के गेरुआ कलर में रंगा जा रहा है. इस दारण एक मस्जिद का कलर भी गेरुआ रंग से रंग दिया गया. मुस्लिम समुदाय की आपत्ति के बाद प्रशासन ने वापस मस्जिद का रंग सफ़ेद किया जा रहा है.

इस मुद्दे पर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के कार्यपालक अधिकारी सुनील वर्मा ने कहा कि फ़िलहाल हमारे पास कोई लिखित आपत्ति नहीं आई है. उन्होंने कहा कि गेरुआ या भगवा रंग से मस्जिद को नहीं रंग जा रहा है. मैदागिन से गौदौलिया तक जो नार्मल कलर सभी बिल्डिंग पर किया गया है, वही वहां भी किया गया है. हालांकि जो जैसा था वैसा ही करा रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.