बड़ी खबर: यूपी के सभी सरकारी स्कूल होंगे डिजिटल, लगेगी वाई – फाई और लगेंगे बायोमेट्रिक अटेंडेंस

योगी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान शिक्षा के क्षेत्र में बहुत सारे बदलाव किए थे। उन्होंने सरकारी स्कूलों की हालत देखने लायक कर दी है। जिन स्कूलों के नाम पर लोगों को चिढ़ आने लगी थी। योगी कार्यकाल में उन सरकारी स्कूलों की हालत सुव्यवस्थित हो गई है। अब दूसरे कार्यकाल के दौरान योगी सरकार एक बार फिर से सरकारी स्कूलों की हालत और वहां की शिक्षा व्यवस्था को और सुदृढ़ बनाने की तैयारी में है।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यूपी के सभी स्कूलों में आगामी 100 दिनों के भीतर वाई फाई सुविधा देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि सभी स्कूलों में एक वेबसाइट और प्रत्येक छात्र की एक ईमेल आईडी होनी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी सरकारी स्कूलों में बायोमीट्रिक उपस्थिति शुरू की जाय। इसके साथ ही करियर परामर्श पोर्टल ‘पंख’, ऑनलाइन निगरानी श्रेणीकरण और ई-लाइब्रेरी पोर्टल भी जल्द से जल्द विकसित किया जाए।

उन्होंने आगे कहा कि 10वीं बोर्ड के लिए नया परीक्षा पैटर्न 2023 तक लागू किया जाना चाहिए, जबकि कक्षा 12 की परीक्षा के लिए इसे 2025 से संरचनात्मक और प्रशासनिक सुधारों के लिए लागू किया जाना चाहिए। सीखने के परिणामों में सुधार लाने, नामांकन बढ़ाने और स्कूल छोड़ने की दर में कमी लाने के लिए एक कार्य योजना तैयार की जानी चाहिए।

सीएम योगी ने कहा कि राज्य के लिए जल्द ही नई खेल नीति तैयार की जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि संभागीय स्तर पर खेल महाविद्यालयों और खेल अकादमियों की स्थापना के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) मॉडल का पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी शिक्षण संस्थानों में करियर काउंसलिंग सेल की स्थापना की जानी चाहिए। कक्षा 9 और 11 में इंटर्नशिप कार्यक्रम और रोजगारोन्मुखी शिक्षा के लिए काम शुरू होना चाहिए।