Aligarh Murder Case: सर्राफा व्यापारी के पत्नी और बेटे के मर्डर केस में CCTV फूटेज से आरोपियों की हुई पहचान, मृतका के बहन से पुलिस की पूछताछ जारी

सर्राफा व्यापारियों पर हमले और लूटपाट कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं. हाल ही में अलीगढ़ में सर्राफा व्यापारी की पत्नी और बेटे की हत्या कर लूटपाट की गई है. इस मामले में पुलिस की जांच लगातार जारी है. सीसीटीवी फुटेज के आधार पर घर में घुसकर महिला और बच्चे की हत्या करने वालों को पुलिस ने पहचान लिया है और उसके फोटो भी जारी कर दिए गए हैं. बता दें कि पुलिस ने उन हत्यारों पर 50000 रुपए का इनाम घोषित किया है.
अलीगढ़ के क्वार्सी थाना क्षेत्र के सुरेंद्रनगर में गुरुवार को दोनों हत्यारों ने घर में घुसकर सर्राफा कारोबारी की पत्नी शिखा वर्मा व 8 वर्षीय पुत्र गिरवान्शु की बेरहमी से हत्या कर दी थी. जिसके बाद सर्राफा कारोबारी ने अपनी साली और उसके होने वाले पति पर हत्या का आरोप लगाया था. तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी थी. इस घटना के बाद से ही देशभर के स्वर्णकारों में जबरदस्त आक्रोश है. स्वर्णकारों के अनुसार, सरकार कोई भी हो, सुनारों को संरक्षण नहीं मिल पाता. उनके साथ आए दिन किसी न किसी प्रकार की अनहोनी घटनाएं होती रहती हैं. उन्हें न्याय के लिए दर – दर भटकना पड़ता है.
इस घटना के बाद एसएसपी ने मामले की जांच के लिए पांच टीम नियुक्त की थी. जिसमें से एक टीम को विशेष तौर पर इलेक्ट्रॉनिक सबूत जुटाने के लिए लगाया गया था. पुलिस टीम ने सर्राफा कारोबारी के मोहल्ले से लेकर आसपास तक के सभी सीसीटीवी फुटेज खंगाले. जिसके आधार पर दो आरोपी नजर आए. जिसमें से एक आरोपी ने आसमानी रंग की टी-शर्ट पहनी है और मुंह पर रुमाल बांधा हुआ है. जबकि दूसरे आरोपी ने हरे रंग की टीशर्ट पहनी हुई है और उसका चेहरा साफ नजर आ रहा है. पुलिस ने दोनों की फोटो जारी कर दी गई है. वहीँ उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार पूरे शहर में इनके पोस्टर लगाए जाएंगे और एसएसपी ने इन पर 50000 रुपए का इनाम भी घोषित किया है.


घटना के बाद सराफा कारोबारी ललित वर्मा ने अपनी पत्नी की बहन अंजलि वर्मा और उसके होने वाले पति सोमेश चौहान पर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था. जिसके बाद पुलिस ने शुक्रवार को दोनों को गिरफ्तार कर लिया था और उनसे पूछताछ की जा रही है.
हालांकि पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दोनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही है, लेकिन अभी कोई तथ्यात्मक चीजें नहीं मिल सकी हैं. पिता की सरकारी नौकरी को लेकर दोनों बहनों के बीच में विवाद चल रहा था और ललित ने कोर्ट में केस भी कर दिया था. इसको लेकर दोनों पक्षों में कई बार विवाद हुआ था.

मृतका शिखा व गिरवांशु (फ़ाइल फ़ोटो)


नौकरी और फण्ड का विवाद


मृतका शिखा के पिता देवेंद्र किशोर वर्मा जिला बचत अधिकारी थे. पिछले वर्ष 13 अप्रैल 2021 को आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी. जबकि तीन साल पहले उनकी पत्नी व मृतका की मां का निधन भी 16 अगस्त 2018 को हो चुका है.
देवेंद्र किशोर का कोई पुत्र नहीं था और सिर्फ तीन बेटियां ही थी. जिसमें शिखा बड़ी बेटी थी. ड्यूटी पर रहते हुए ही उनकी मौत हुई, ऐसे में मृतक आश्रित कोटे से नौकरी और उनके फंड के रुपयों के लिए दोनों पक्षों में विवाद शुरू हो गया था.
बचत अधिकारी की मौत के बाद अनुकंपा नियुक्ति की नौकरी और 45 लाख रुपए फंड के लिए बहनों में विवाद शुरू हुआ. कोई पुत्र न होने के कारण बेटियां ही उनके वारिस थी. मृतका शिखा ने अपने पिता की नौकरी पाने के लिए 15 सितंबर 2021 को आवेदन किया था, जिसके बाद उसकी बहन अंजलि ने भी इस नौकरी के लिए आवेदन कर दिया था. जो दोनों के बीच विवाद का कारण था.
कानूनी तौर पर शादीशुदा बेटी नौकरी के लिए पात्र नहीं होती है. जिससे शिखा का आवेदन निरस्त हो सकता था. लेकिन उसके सराफा कारोबारी पति ने न्यायालय में वाद प्रस्तुत करते हुए बताया था कि उसकी पत्नी की बहन अंजलि का विवाह बेगम बाग निवासी सोमेश चौहान के साथ हो चुका है. ललित ने बताया था कि उसकी साली ने आर्य समाज मंदिर में शादी की है. वहीं दूसरी ओर उसकी साली का कहना था कि उसकी शादी नहीं हुई है, बल्कि दोनों की शादी होने वाली है.


सर्राफा व्यापारियों ने बंद रखी दुकानें


एक न्यूज़ वेबसाइट की खबर के अनुसार, महिला और बालक का सुबह पोस्टमार्टम कराया गया, जिसके बाद पुलिस ने शव सराफा कारोबारी को सौंप दिया. जिसके बाद मां और बेटे का एक साथ अंतिम संस्कार किया गया और सारा माहौल गमगीन हो गया. पूरे दिन सराफा कारोबारी के मकान पर ताला पड़ा रहा और इलाके में भी सन्नाटा रहा.
वहीं दूसरी ओर घटना के विरोध में सराफा कारोबारियों ने पूरे दिन बाजार बंद रखा और पुलिस से आरोपियों पर जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की. उनका कहना था कि महिला और बच्चे की निर्मम हत्या करने वालों को फांसी की सजा दी जानी चाहिए.


मामले का जल्द खुलासा करेगी पुलिस


एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि पुलिस की टीमें लगातार मामले की जांच कर रही हैं और उनके हाथ कई अहम सबूत भी लगे हैं. इसके साथ ही दोनों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद उनसे भी पूछताछ की जा रही है.
एसएसपी ने बताया कि मृतका की बहन और उसके होने वाले पति से पुलिस पूछताछ कर रही है और जल्दी ही सारा मामला साफ हो जाएगा. उन्होंने बताया कि सीसीटीवी में दिखे आरोपियों पर 50 हजार का ईनाम रखा गया है और सूचना देने वाले का नाम भी गोपनीय रखा जाएगा. उन्होंने बताया कि पुलिस जल्दी ही सारे मामले का खुलासा करेगी.

पुलिस मामले की तह तक जांच कर रही है