Yogi Government 2.0: केशव मौर्य और बृजेश पाठक का उप मुख्यमंत्री बनना आगामी लोकसभा चुनाव साधने की तैयारी ?

योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के पद पर अपने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ ले चुके हैं. उनके साथ उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और बृजेश पाठक भी शपथ ले चुके हैं. इस बार जो उप मुख्यमंत्री के चेहरे बनाए गए हैं, वह ब्राह्मण फेस और ओबीसी फेस को देखते हुए बनाए गए हैं. जिसके लिए आने वाला लोकसभा चुनाव काफी मददगार साबित होगा. यह दो चेहरे आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को अच्छा वोट दिलाएंगे.

वही स्वतंत्र देव सिंह कुर्मी समाज के बहुत पुराने और कद्दावर नेता हैं. साथ ही प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर उन्होंने काफी अच्छा काम किया है. इस बार वह योगी कैबिनेट में अपनी योग्यता को साबित करेंगे. साथ ही साथ आगामी लोकसभा चुनाव में भी वे काफी मदद करेंगे. जिस तरह से 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने जमीनी स्तर पर अच्छा काम किया है. यह स्वतंत्र देव सिंह की ही नीति थी, जिसके कारण भाजपा को ग्रामीण क्षेत्रों से वोट का प्रतिशत अच्छा मिला है.

बृजेश पाठक जो कि प्रदेश में वर्तमान में ब्राह्मण चेहरा है. इससे पहले वह योगी कैबिनेट में कानून मंत्री रह चुके हैं. बृजेश पाठक 2017 में बसपा छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे. इस बार उन्होंने पूर्व उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के जगह पर अपने को स्थापित किया है. केशव मौर्य की पकड़ अपनी बिरादरी में काफी अच्छी है. मौर्य समाज में वे काफी लोकप्रिय हैं. हालांकि इस बार वे जिस सीट से चुनाव लड़े थे, वहीँ से हार गए थे.

मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्रियों ने शुक्रवार को लखनऊ के इकाना स्टेडियम में 50,000 से ज्यादा लोगों के समक्ष शपथ ग्रहण किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा समेत भाजपा के कई बड़े नेताओं ने इस शपथ ग्रहण में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी.

योगी आदित्यनाथ एक बार फिर से प्रदेश के मुख्यमंत्री बने हैं. इस बार यूपी में 403 सीटों में 273 सीटों पर भगवा लहराया है. वहीँ 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 325 सीटें मिली थी. इस बार वोटर्स की माने तो प्रधानमंत्री ने प्रचार के दौरान योगी आदित्यनाथ के लिए जो नारा दिया था वह काफी सफल रहा है. उन्होंने जो नारा दिया था, वह है – “यूपी प्लस योगी बहुत है उपयोगी”

Leave a Reply

Your email address will not be published.