आरपीएन सिंह के भाजपा में शामिल होने के बाद क्यों ट्रेंड हुए सचिन पायलट ?

कांग्रेस सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे आरपीएन सिंह द्वारा पार्टी को छोड़े जानें की खबरों के बीच अचानक से पूर्व केन्द्रीय मंत्री और राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायटल सुर्खियों में आ गए हैं.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह पार्टी छोड़ कर बीजेपी में शामिल हो गए हैं और इसके साथ ही कांग्रेस के दिग्गज नेता सचिन पायलट ट्रेंड होने लगे हैं. खबरों की मानें तो मंगलवार को आरपीएन सिंह ने कांग्रेस अध्‍यक्ष सोन‍िया गांधी को अपना त्‍यागपत्र भेज दिया है. कहा जा रहा है कि वर्तमान में कांग्रेस झारखंड के प्रभारी आरपीएन सिंह अपने करीबियों को टिकट न दिए जाने से नाराज थे. इसलिए उन्होंने पार्टी छोड़ी है.

खबर यह भी है कि आरपीएन सिंह वर्तमान में पडरौना विधानसभा सीट से विधायक स्वामी प्रसाद मौर्य के सामने चुनाव लडेंगें. स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने हाल ही में भाजपा छोड़कर सपा की सदस्यता ली है और इसी सीट से ताल ठोंक रहे हैं. दरअसल स्‍वामी प्रसाद मौर्य के समाजवादी पार्टी में जाने के बाद से ही भाजपा इस सीट से क‍िसी बड़े नाम की तलाश में थी, लेकिन अब यह तलाश आरपीएन सिंह के रूप में पूरी हो गई है.

इस पूरी खबर के बीच कांग्रेस और भाजपा में जबानी युद्ध छिड़ गया है और इन सबके विपरीत कांग्रेस नेता और राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ट्रेंड में आ गए हैं. इसके साथ ही उनकी एक फोटो भी वायरल हो गई है, जिसमें आरपीएन सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया और जितिन प्रसाद खड़े हैं. इसे लेकर एक ट्विटर यूजर निखिल राजपूत ने लिखा कि

“ब्रेकिंग

कांग्रेस नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह भारतीय जनता पार्टी में होंगे शामिल !!

कहा, कांग्रेस अब समाप्ति की ओर अग्रसर हो चुकी है.

सचिन पायलट भी आ गया तो ये पिक कम्पलीट हो जायेगा”

वहीं राधा नाम की एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि “आरपीएन सिंह के बाद अगला नंबर सचिन पायलट”

इसी तरह पत्रकार रूबिका लियाकत के ट्विट को रिट्विट करते हुए अमरेंद्र सिंह नाम के यूजर ने लिखा कि

“तेरा खून कब खौलेगा रे सचिन पायलट”

वरिष्ठ पत्रकार अमिश देवगन ने लिखा कि “1 ‘बच’ गये पार्टी अभी बाक़ी है .. #RPNSingh”

दरअसल आरपीएन सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया और जितिन प्रसाद चारों ही नेता पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कोर टीम के सदस्य माने जाते थे और इसमें से तीन लोग भाजपा की सदस्यता ले चुके हैं, लेकिन इनमें से अभी सचिन पायलट ही ऐसे हैं, जो अभी तक कांग्रेस में बने हुए है. यही वजह है कि सचिन पायलट सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुए.

पहले भी हो चुके हैं सचिन पायलट के चर्चे

बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं है कि जब सचिन पायलट के चर्चे हैं. इसके पहले जब मार्च 2020 में जब ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में शामिल हुए थे, तब भी यही अटकलें लगाई जा रही थीं कि सचिन पायलट भाजपा में शामिल होंगे. भाजपा नेता भाजपा नेता अब्दुल्लाकुट्टी ने एक मौके पर कहा था कि सचिन पायलट अच्छे नेता हैं, जल्द ही वह BJP में शामिल होंगे’, जबकि पिछले साल जून में भाजपा नेता और सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने कहा था कि उन्होंने कथित तौर पर नाराज चल रहे कांग्रेस नेता से भाजपा में शामिल होने के बारे में बात की थी.

गहलोत की सरकार गिराने के प्रयास के भी आरोप

इसके अलावा सचिन पायलट पर यह भी आरोप है कि उन्होंने 2020 में अशोक गहलोत की सरकार गिराने का भी प्रयास किया था. आरोप था कि उस दौरान सचिन पायलट ने अपने कुछ विधायकों के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व के खिलाफ बगावती तेवर अपनाए थे. उसी दौरान सचिन पायलट ने अपने उपमुख्यमत्री पद और प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. लिहाजा यह अटकलें जोर पकड़ने लगी थीं कि सचिन पायलट भाजपा में शामिल होंगे. हालाँकि सचिन पायलट ने कई मौकों पर इस प्रकार की अटकलों को सिरे से खारिज कर दिया था. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि मौजूदा राजनैतिक परिवेश के बीच सचिन पायलट की प्रतिक्रिया इस मामले को लेकर क्या होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *