UP Election 2022: बीजेपी ने नहीं दिया टिकट तो सपा में हो गए शामिल, स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) को अब अखिलेश ने भी दिया गच्चा

स्वामी प्रसाद मौर्य… जी हां… ये वही नाम है, जो टिकट के लिए दर-दर फिरता रहता है. बसपा, भाजपा और अब सपा. आगे शायद इनका कदम कांग्रेस की ओर बढ़ने वाला है. क्योंकि जब इनकी बसपा में दाल न गलने पर इन्होने भाजपा का दामन थामा और जब भाजपा ने इनका काटने का प्लान बनाया तो इन्होंने विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा छोड़ सपा जॉइन कर लिया. इन्हें लगा था कि इनके सपा जॉइन कर लेने से भाजपा में भूचाल आ जाएगा. लेकिन ऐसा तो कुछ हुआ नहीं. हुआ बस इतना कि एक डूबते को तिनके का सहारा मिल गया. राजनैतिक वजूद तलाशती सपा को थोडा सा सहारा मिल गया. लेकिन अब जरा सा संभलते ही सपा ने भी स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) को गच्चा दे दिया. इसके बाद जैसे स्वामी प्रसाद मौर्य के अरमानों पर पानी फिर गया हो. ठण्ड के मौसम में जैसे किसी ने सिर पर बर्फ की सिल्ली रख दी हो.

ये भी पढ़ें: सबसे कम उम्र की विधायक ‘अदिति सिंह’, रायबरेली की हॉट सीट से BJP ने उतारा है मैदान में

दरअसल, स्वामी प्रसाद मौर्य सपा से अपने बेटे उत्कृष्ट मौर्य को ऊंचाहार सीट से टिकट दिलवाने की जुगत में जुटे थे, लेकिन अफसोस सपा ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेरते हुए इस सीट से मनोज पांडेय को टिकट दे डाला. इससे पहले जब बीजेपी ने उनके बेटे को टिकट देने से मना किया था तो इससे खफा होकर उन्होंने सपा का दामन थाम लिया था. अब ऐसे में स्वामी का अगला कदम क्या होगा. इसकी चर्चा जोरों पर है.

ये भी पढ़ें : साधना-मुलायम की प्रेम कहानी: अगले 49 दिनों तक अखिलेश को दर्द देगी मुलायम की 40 साल पुरानी लव स्टोरी

बता दें कि ऊंचाहार वही सीट है, जहां से स्वामी प्रसाद मौर्य ने सियासत का ककहरा सीखते हुए मंत्री पद तक का सफर तय किया. हालांकि, बाद में उन्होंने ऊंचाहार सीट से रूखसत होकर कुशीनगर के पडरोना सीट का रूख किया और इसके बाद उन्होंने बीएसपी का दाम थाम लिया. बाद में वे मत्री भी बनें, लेकिन उन्हें फिर बीएसपी भी रास नहीं आई, जिसके बाद उन्होंने अपना सियासी जायका बढ़ाने के लिए बीजेपी की नौका पर सवारी करने का मन बनाया, लेकिन 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले अब उनका बीजेपी से भी मोह भंग हो गया और अब उन्होंने सपा का दामन थाम लिया है.

अब यह कहने में कोई गुरेज नहीं है कि उन्होंने सपा का दामन खुद के साथ-साथ अपने बेटे को भी टिकट दिलवाने की इच्छा के साथ किया था, लेकिन अब जब सपा ने उनकी यह इच्छा पूरी करने से मना कर दिया है, तो ऐसी स्थिति में वे कौन-सा कदम उठाते हैं. इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.