“माल वही है लेकिन लिफाफा नया है” सीएम योगी ने नाम लिए बिना अखिलेश यादव पर साधा निशाना

चुनावों के नजदीक आते ही जहां एक ओर नेताओं के बोल बचन नजर आ रहे हैं. वहीँ, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ एक बार फिर से अपने पुराने तेवर में नजर आ रहे हैं. उन्होंने जयंत चौधरी और अखिलेश यादव का नाम लिए बिना उनपर निशाना साधा और जमकर हमला बोला. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुज्जफरनगर दंगों को याद करते हुए कहा कि जब 2013 में दंगा हुआ था, तब लखनऊ वाला लड़का सत्ता में था और हत्याएं करा रहा था. तब दिल्ली वाला लड़का कहता था कि दंगाइयों के खिलाफ ज्यादा कारवाई नहीं होनी चाहिए. ये लोग नए कवर के साथ फिर से आ गए हैं, माल वही है लेकिन लिफाफा नया है.

बता दें कि मुख्यमंत्री ने इससे पहले उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में धौलाना के योगदान को याद करते हुए कहा कि भारत के प्रथम स्वतंत्रता समर में धौलाना के क्रांतिकारियों ने जो बलिदान दिया उसे भुलाया नहीं जा सकता. उन्होंने सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि सपा सरकार की सोच परिवारवादी और कार्य दंगावादी था. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अंदर आपको यह फर्क स्पष्ट देखने को मिलता होगा.

सीएम ने कहा कि दो लड़कों की जोड़ी प्रदेश में आ रही है. यह दंगा कराने की साजिश के लिए आ रही है. पिछले पांच साल से अपने बिलों में घुसे दंगाई अब बाहर आकर गर्मी दिखा रहे हैं, इनकी गर्मी 10 मार्च को पूरी तरह निकल जाएगी.

उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में धौलाना के योगदान को याद करते हुए कहा कि भारत के प्रथम स्वतंत्रता समर में धौलाना के क्रांतिकारियों ने जो बलिदान दिया उसे भुलाया नहीं जा सकता. उन्होंने सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि सपा सरकार की सोच परिवारवादी और कार्य दंगावादी था. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अंदर आपको यह फर्क स्पष्ट देखने को मिलता होगा.

सीएम ने आगे कहा कि 2017 से पहले कोई सुरक्षित नहीं था, बेटियां स्कूल नहीं जा पाती थीं, अराजक मंजर था. विकास की योजनाएं ठप पड़ी थीं. गरीबों को शासन की योजनाएं नहीं मिल पाती थीं. विकास का पैसा इत्र वाले के घर में दीवारों के पीछे कैद हो जाता था. मुजफ्फरनगर के दंगे, सहारनपुर का दंगा, बरेली मुरादाबाद रामपुर और यहां तक कि लखनऊ में मुख्यमंत्री की नाक के नीचे भी दंगे हुआ करते थे. लेकिन दंगाइयों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती थी. सपा सरकार इस संवेदना दंगाइयों के साथ थी, दंगा पीड़ितों के साथ नहीं.

सीएम ने मुजफ्फरनगर के गौरव और सचिन की हत्या का भी जिक्र करते हुए कहा कि सपा के संरक्षण में पलने वाले गुंडों ने सचिन और गौरव की निर्मम हत्या की थी. उन्होंने कहा इन लोगों ने वैक्सीन एवं खाद्यान्न के मामले में गरीबों को गुमराह करने का प्रयास किया. आज 26 करोड़ वैक्सीन डोज लगाने वाला प्रदेश देश में पहले नंबर पर है.

सीएम ने कहा कि हर समस्या का समाधान जो दे वही सरकार है. जो अपने समय में बिजली नहीं दे सके, अब बिजली फ्री देने की बात कर रहे हैं. उन्होंने धौलाना विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी धर्मेश तोमर के पक्ष में वोट करने की अपील लोगों से की.

वहीं अलीगढ़ के अतरौली में गृह मंत्री अखिलेश बाबू टीके का विरोध करते थे कि ये भाजपा का टीका है हम नहीं लगवाएंगे, उन्होंने देश और UP की जनता को गुमराह करने का प्रयास किया. लेकिन बाद में खुद भी टीका लगवा लिया. अगर लोग उनकी बात मानकर टीका नहीं लगवाते तो क्या कोरोना की तीसरी लहर में बच पाते?

अलीगढ़ के अतरौली में गृह मंत्री अमित शाह अलीगढ़ के ताले की फैक्ट्री में बुआ-भतीजा की सरकार ने ताला लगा दिया था. भाजपा सरकार के एक जिला-एक उत्पाद के तहत यहां के ताला उद्योग को बढ़ावा दिया गया. अब ताला बनाने की सैकड़ों फैक्ट्री यहां फिर से शुरू हो गई हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.