“नोटों पर गणेश-लक्ष्मी की फोटो से सुधरेगी अर्थव्यवस्था” पहले हिंदुत्व का विरोध, अब हिन्दुओं के हितैषी बने अरविन्द केजरीवाल

कहते हैं कि व्यक्ति का आचरण और स्वभाव उसके करतूतों से पता चलता है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भारतीय नोटों पर लक्ष्मी गणेश की फोटो छापने की मांग की है. उन्होंने इंडोनेशिया का उदाहरण देते हुए कहा है, “जब इंडोनेशिया ऐसा कर सकता है, तो हम क्यों नहीं कर सकते. इंडोनेशिया ने भी श्री गणेश जी को चुना तो हम भी कर सकते हैं. मैं कल या परसों केंद्र को इसके लिए पत्र लिख कर अपील करूंगा देश की आर्थिक स्थिति को ठीक करने के प्रयासों के अलावा हमें ईश्वर के आशीर्वाद की भी जरूरत है.”

ये वही अरविन्द केजरीवाल हैं, जो कि अक्सर हिन्दुओं और हिंदुत्व के विरोध के लिए अक्सर चर्चा में रहते हैं. वो अलग बात है कि कभी कभी हिन्दुओं का विरोध करते करते देशविरोधी तत्वों से हाथ मिला लेते हैं. हाल ही में अरविन्द केजरीवाल ने दीपावली के अवसर पर दिल्ली में पटाखों को बैन करके अपने को हिन्दुओं का विरोधी साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी. पंजाब में इनकी सरकार है, वहां पराली जलाने पर प्रदुषण फ़ैल रहा, लेकिन इन्हें तो समस्या पटाखों से है.

इन्होने कहा है कि देश की अर्थिक स्थिति ठीक करने के लिए ईश्वर के आशीर्वाद की ज़रूर है. शायद इनके ईश्वर कोई और हैं, क्योंकि अभी कुछ ही दिन पहले इनके ही मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने हिन्दू देवी देवताओं को न मानने की सैकड़ों लोगों को शपथ दिलाई थी. साथ ही गौतम ने धर्म कुछ लोगों का धर्म परिवर्तन कराने की भी कोशिश की थी. अब समझ में यह नहीं आ रही कि ये मुर्ख किसे बना रहे, स्वयं को या दिल्ली की जनता को.

इसके अलावा अभी कुछ ही दिन पहले गुजरात में इनके बड़े – बड़े पोस्टर लगाए गए थे, जिसमें साफ़ तौर पर लिखा हुआ था कि मैं हिन्दू धर्म को पागलपन मानता हूं. वहीँ दूसरे पोस्टर में यह भी लिखा था कि मैं ब्रह्मा, विष्णु, महेश और कृष्ण को ईश्वर नहीं मानता. 

One thought on ““नोटों पर गणेश-लक्ष्मी की फोटो से सुधरेगी अर्थव्यवस्था” पहले हिंदुत्व का विरोध, अब हिन्दुओं के हितैषी बने अरविन्द केजरीवाल

Comments are closed.