Bihar: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुरक्षा में बड़ी चूक, 16 दिनों के अंदर दूसरी बड़ी घटना

ब्यूरो रिपोर्ट अभिषेक आनंद

नालंदा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार संवाद कार्यक्रम के दौरान नालंदा के सिलाव में एक युवक ने मंच के पीछे पटाखा फेका है. इस दौरान नीतीश कुमार भी मंच पर ही थे, हालांकि वो सुरक्षित हैं. इसके बाद युवक को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. सीएम नीतीश कुमार से महज 15 से 18 फीट की दूरी पर धमाका हुआ है. धमाके के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई. विस्फोटक की क्षमता कम थी और किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

पुलिस ने मौके से एक युवक को गिरफ्तार किया है.युवक इस्लामपुर के सत्यारगंज निवासी स्व प्रमोद कुमार के 21 वर्षीय पुत्र शुभम आदित्य है. पुलिस ने उसके पास से माचिस की तिली और एक पटाखा बम बरामद किया है.

‘ध्यानाकर्षण के लिए फोड़ा बम’

पूछताछ में आरोपी युवक ने बताया कि वह राष्ट्रीय मुद्दे पर सीएम का ध्यानाकर्षण कराना चाह रहा था. जन संवाद कार्यक्रम के दौरान लोगों का आवेदन ले रहे नीतीश कुमार ने जब उसकी बातें नहीं सुनी तो उसने ऐसा किया.

लोगों से आवेदन ले रहे थे सीएम

घटना उस वक्त हुआ जब सीएम नीतीश कुमार जनसंवाद में पहुंचे लोगों से आवेदन ले रहे थे. उसी दौरान उनसे कुछ दूरी पर अचानक विस्फोट हो गया. हालांकि उन्हें तुरंत ही सुरक्षा घेरे में लेकर वहां से निकाल लिया गया. उसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आगे के कार्यक्रम में राजगीर के लिए रवाना हो गए.

पुलिस के गिरफ्त में युवक

इससे पहले भी हुआ था सीएम पर हमला

इससे पहले, 27 मार्च को भी पटना के बख्तियारपुर में एक कार्यक्रम के दौरान एक युवक ने सीएम नीतीश कुमार पर पीछे हमला करके उन्हें एक युवक ने मुक्का जड़ दिया था. इसके बाद सीएम की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों ने युवक को गिरफ्तार कर लिया था. हालांकि, जांच में पता चला कि युवक मानसिक रूप से विक्षिप्त था.

सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल

और अब सिलाव में ब्लास्ट होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सुरक्षा पर एक बार फिर सवाल खड़े हो गए हैं कि कैसे एक युवक माचिस और विस्फोटक लेकर मंच के पास पहुंच गया. जबकि सीएम वहां त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे में थे, उनके कार्यक्रम में स्पेशल ब्रांच के इंस्पेक्टर से लेकर सिपाहियों की तैनाती थी. वहीं, सामने वाले घेरे में एसपी और एएसपी रैंक के दो पदाधिकारी थे.

डॉग स्क्वाड और बम निरोधक दस्ता भी फेल

सीएम के कार्यक्रम से पहले डॉग स्क्वाड और बम निरोधक दस्ता भी कार्यस्थल का मुआयना करते हैं. और सीएम का कार्यक्रम होने तक दोनों स्क्वाड वहीं रहते हैं.अब जब ब्लास्ट की घटना हुई है तब डॉग स्क्वाड और बम निरोधक दस्ता की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहे हैं.