मुस्लिम बच्चों को सिखाया जा रहा है हिन्दुओं की हत्या करना, कट्टरता और नफरत भरकर फैलाया जा रहा आतंकवाद, देखें वीडियोज़

हाल ही में, केरल के एक बच्चे का वीडियो वायरल होने के बाद केरल पुलिस ने जांच शुरू की, जिसमें वह हिंदू विरोधी और ईसाई विरोधी नारे लगा रहा था, यह चेतावनी देते हुए कि मुसलमान उन सभी को मारने आ रहे हैं. यह वीडियो पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के मार्च का है.

वीडियो में, पीएफआई के सदस्य और बच्चे को यह कहते हुए सुना जा सकता है, “यदि आप हमारी ज़मीं पर चुपचाप नहीं रहेंगे तो अपनी मौत के लिए तैयार रहें. हम पाकिस्तान या बांग्लादेश नहीं जाएंगे, आपको यहां रहना होगा जैसा हम कहते हैं करना होगा, वरना हम जानते हैं कि आपको कैसे चुप कराना है, हम पर हमला होने पर भी हम आपको मार देंगे. यदि आप चुपचाप नहीं रहेंगे, तो हम जानते हैं कि ‘आज़ादी’ कैसे माँगी जाती है. अपनी मौत के लिए तैयार रहो.” यह एक बच्चे द्वारा यादृच्छिक शेख़ी नहीं थी. यह एक गीत था, एक घृणास्पद कविता जिसे बच्चे को सिखाया गया है जिसे वह गाता है और नारेबाजी में लोगों को शामिल भी करवाता है.

मुस्लिम बच्चों का कट्टरवाद और हिंदू विरोधी प्रचार

केरल के वीडियो में दिखाया गया है कि कैसे मुस्लिम समुदाय के बच्चों को हिंदुओं और अन्य समुदायों के खिलाफ कट्टरपंथी बनाया जा रहा है. यह पहली घटना नहीं है जब सोशल मीडिया पर नफरत और दुष्प्रचार से भरे इस तरह के वीडियो सामने आए हैं. अप्रैल 2022 में, सोशल मीडिया पर एक इंस्टाग्राम लाइव वायरल हुआ जिसमें एक इन्फ्लुएंसर सबनाम और उसके दोस्त नदीम ने हिंदुओं के खिलाफ जहर उगल दिया. नदीम ने कहा, ‘मैंने अपनी आंखों के सामने तीन हिंदुओं को मारे जाते देखा है. वे हमारे क्षेत्र में रोज मरते हैं. उन्हें खुलेआम मार देना चाहिए. कुछ दिन पहले एक गाय की हत्या की जा रही थी. एक हिंदू ने आकर आपत्ति जताई. मैंने उसे पुलिस और प्रशासन को फोन करने को कहा. वे कुछ नहीं करेंगे.” जब नादिम हिंदुओं को गाली दे रहा था और खुलेआम उन्हें मारने के लिए कह रहा था, उस वक़्त  सबनाम उसकी बातों पर हंस रहा था.

नदीम ने चुनौती देते हुए कहा, “अगर कोई मुझे रिपोर्ट करना चाहता है, तो आगे बढ़ो. अगर मेरे पास एके 47 होती तो मैं उन्हें एक-एक करके पहचान कर मार देता. हिंदुओं का रेप होना चाहिए. मैं यह करूंगा. मैंने तीन हिंदू महिलाओं का बलात्कार किया है.” वह पूरी क्लिप के दौरान हिंदुओं के लिए भद्दी और बिल्कुल गंदी गालियों का इस्तेमाल करता रहा. नदीम को बाद में असम पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.

फरवरी 2021 में, जाहिर तौर पर पाकिस्तान से 2 मिनट का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें बच्चों को लकड़ी की तलवारों से खेलते हुए दिखाया गया था. जब वीडियो रिकॉर्ड करने वाले ने उनसे पूछा कि वे तलवारों का क्या करेंगे, तो उन्होंने जवाब दिया, “काफिरों का सिर काट दो”. उन्होंने आगे पूछा कि अगर उन्होंने काफिरों का सिर कलम कर दिया तो उन्हें क्या मिलेगा, और उन्होंने जवाब दिया, “जन्नत (स्वर्ग)”.

मई 2020 में, टिकटोक (प्रतिबंधित चाईनीज़ शार्ट वीडियो ऐप) पर एक विडियो वायरल हुआ था जिसमें एक मुस्लिम लड़के को एक मुस्लिम योद्धा हैदर की प्रशंसा करते हुए देखा गया था. वही मुस्लिम योद्धा हैदर जिसे हजारों हिंदुओं की हत्या करने के लिए ‘काफिर’ कहा जाता है. विडियो में गाना बज रहा था, “इलाका हिल रहा था वेहदत के नारों से, जरा सी डर में मैदान भरा था काफिर की लाशों से, जब चली हैदर की तलवार”.

जून 2019 में, एक और टिकटॉक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक मुस्लिम लड़के ने कहा, “अबे काफिरों हमारा इस्लाम नहीं सिखता किसी बेगुनाह को सजा देना, वर्ना हमसे अच्छा जिबह करना किसको मालूम.”

पाकिस्तानी स्कूल का एक वीडियो कई बार सामने आया है जिसमें स्कूली छात्राओं को सिर काटने की हरकत करते देखा गया है. रिपोर्टों के अनुसार, इस्लामाबाद, पाकिस्तान में फ्रांस विरोधी प्रदर्शनकारियों ने पैगंबर मुहम्मद के कार्टून बनाने के लिए उनके खिलाफ अपना गुस्सा प्रदर्शित करने हेतु फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के पुतले का सिर काट दिया. इस्लामाबाद के देवबंदी मदरसा में एक महिला शिक्षिका ने पुतले का सिर कलम कर दिया, जिसमें कई बच्चे थे. बैकग्राउंड में गाना ‘गुस्ताख नबी की एक सजा, सर तन से जुदा’ बज रहा था.

2019 में एक और वीडियो वायरल हुआ जिसमें पाकिस्तान के बच्चों का इस्तेमाल करके भारत को पाकिस्तान में बदलने का प्रचार किया गया। यह ‘अब हिंद बनेगा पाकिस्तान’ कार्यक्रम का हिस्सा था। वीडियो में, एक बच्चा है जो कहता है, “कितना मजा आएगा जब हम दिल्ली गेट पर गाय के कबाब खाएंगे।” इसमें एक बच्चा कहता है, “सुन लो RSS के दहशतगर्दों, अब हर मुसलमान के शहादत का बदला लेंगे क्योंकि अब हिंद बनेगा पाकिस्तान!

2020 में इस्लामाबाद प्रशासन ने हिंदू समुदाय को मंदिर बनाने की अनुमति दी थी. इसके बाद पाकिस्तानी समाज में मंदिर के खिलाफ घिनौना, नफरत भरा अभियान चला। सामने आए दर्जनों वीडियो में से एक सबसे अलग था. विडियो में बमुश्किल 5 साल का बच्चा यह कहते हुए देखा गया कि अगर हिंदू इस्लामाबाद में मंदिर बनाने में कामयाब होते हैं, तो वह व्यक्तिगत रूप से उन सभी को मार डालेगा.

ऐसे ही विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर हजारों वीडियोज़ हैं जो हिंदुओं और अन्य समुदायों के खिलाफ नफरत का प्रचार करते हैं.