“चाकू से मारा, दिमाग और आंख की नसें कर दी डैमेज”, अमरावती में नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने पर उमेश कोल्हे की हत्या

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक उमेश के गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच लंबा और 5 इंच गहरा जख्म मिला.

उदयपुर में कन्हैयालाल नाम के दर्जी की इस्लामपंथियों द्वारा हुई निर्मम हत्या से पूरा देश अभी उभरा नहीं था कि ऐसा ही एक मामला अमरावती में भी सामने आया है. महाराष्ट्र के अमरावती में नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट शेयर करने पर उमेश कोल्हे नाम के व्यक्ति की 6 आरोपियों ने गला काटकर हत्या कर दी. इस मामले में मुख्य आरोपी समेत 7 को अब तक गिरफ्तार कर लिया गया है.कोर्ट ने आरोपी इरफान शेख रहीम को 7 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है.

साँस लेने वाली और आंख की नसें हुईं डैमेज

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक उमेश के गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच लंबा और 5 इंच गहरा जख्म मिला. रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि चाकू के वार से दिमाग की नस को नुकसान पहुंचा था. साथ ही सांस लेने वाली नली, खाना खाने वाली नली और आंख की नसें भी डैमेज हो गई थीं.

NGO संचालक था आरोपी

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने इस मामले की जांच शुरू की है. NIA की FIR में आरोपियों पर इल्जाम लगाया गया है कि यह हत्या एक वर्ग को डराने की कोशिश है. जांच में यह भी सामने आया है कि इरफान रायबर हेल्पलाइन नाम का एक NGO चलाता है और इससे 21 लोग जुड़े हुए हैं. सूत्रों के मुताबिक हत्याकांड में शामिल अन्य आरोपी भी इसी NGO से जुड़े हुए हैं. NIA ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

पाकिस्तान से होती थी NGO को फंडिंग

सूत्रों के अनुसार जांच एजेंसीज को यह जानकारी मिली है कि इस NGO को कुछ खाड़ी देशों और पाकिस्तान से फंडिंग हो रही थी. मुख्य आरोपी को नागपुर से गिरफ्तार किया गया है. वहीं गिरफ्तार छठे आरोपी डॉ. यूसुफ खान उर्फ बहादुर को 5 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है. इसे शनिवार को ही पकड़ा गया था. जांच में यह भी सामने आया है कि इरफान ने धर्म और पैसे का लालच देकर 5 आरोपियों को तैयार किया था. डॉ. यूसुफ खान वह व्यक्ति है जिसने उमेश कोल्हे की पोस्ट के स्क्रीनशॉट को कुछ संदिग्ध वॉट्सऐप ग्रुप में फारवर्ड किया था.