“लड़कियों की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर होगी 21 वर्ष” मोदी सरकार का नया कानून, “आधार से लिंक होंगे वोटर आईडी कार्ड”

एक साल पहले केंद्र की मोदी सरकार ने लड़कियों के शादी की आयु 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष करने के संकेत दिए थे. अब सरकार पूरी तरह से इसकी तैयारी में लग गई है. केंद्र सरकार ने बुधवार को वोटर आईडी कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ने के लिए चुनावी कानून में प्रस्तावित संसोधनों को मंजूरी दे दी है. इसके साथ लड़कियों के लिए विवाह की कानूनी उम्र 18 से बढ़ाकर 21 वर्ष करने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दिया है. अब वोटर आईडी कार्ड को आधार से लिंक कराना अनिवार्य हो जाएगा.

बूथ स्तर पर जुड़ेंगे आधार कार्ड से वोटर आईडी

चुनाव आयोग के सिफारिश पर वर्तमान चुनाव कानून में 4 संशोधन किए जाएंगे. जिसके अनुसार, पहली बार वोट देने वाले वयस्कों को अपना नाम वोटर लिस्ट में जुड़वाने के लिए एक साल में 4 बार मौके दिए जाएंगे. नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल, एसएमएस, फोन या बूथ स्तर के अधिकारीयों के जरिए आधार से वोटर आईडी कार्ड से जोड़ा जाएगा. अभी तक आधार से वोटर आईडी कार्ड को लिंक कराना अनिवार्य नहीं था. बता दें कि चुनाव आयोग और सरकार का यह कदम फर्जी वोटर और वोटिंग में धांधली को रोकने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें : दहेज़ ठुकराया और संविधान की शपथ लेकर की शादी, जौनपुर में अनोखा विवाह

शादी के लिए महिलाओं की उम्र होगी 21 वर्ष

केन्द्रीय कैबिनेट की मंजूरी के बाद, सरकार बाल विवाह निषेध अधिनियम, 2006 में एक संशोधन पेश करेगी और इसके बाद विशेष विवाह अधिनियम और हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 जैसे व्यक्तिगत कानूनों में संशोधन लाएगी. बुधवार को दी गई मंजूरी दिसंबर 2020 में जया जेटली की अध्यक्षता वाली केंद्र की टास्क फोर्स द्वारा नीति आयोग को सौंपी गई सिफारिशों पर आधारित है. इसका गठन मातृत्व की उम्र से संबंधित मामलों, मातृ मृत्यु दर को कम करने की आवश्यकता, पोषण में सुधार से संबंधित मामलों के लिए किया गया था.

ये भी पढ़ें : एक्ट्रेस तारा सुतारिया बन रहीं नई इन्टरनेट सेंसेशन, तस्वीरें देख मची सनसनी

वयस्कों की यही राय

जेटली ने आगे कहा, “हमें 16 विश्वविद्यालयों से जवाब मिले और युवाओं तक पहुँचने के लिए 15 से अधिक गैर सरकारी संगठनों को शामिल किया गया है. ग्रामीण और हाशिए के समुदायों और सभी धर्मों और शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों से समान रूप से फीडबैक लिया गया. हमें युवा वयस्कों से प्रतिक्रिया मिली कि शादी की उम्र 22-23 वर्ष होनी चाहिए. कुछ हलकों से आपत्तियाँ आई हैं, लेकिन हमने महसूस किया कि उन्हें कुछ समूहों ने ऐसा करने का निर्देश दिया था.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.