“रावण दिल का नेक, राम बहुत शातिर, रावण वध को सीता के अपहरण की रची थी साजिश” भगवान राम के अपमान पर यूनिवर्सिटी ने प्रोफेसर को किया बर्खास्त

विडियो वायरल होने के बाद यूनिवर्सिटी ने प्रोफेसर को हटा दिया है

वामपथियों का भगवान राम और हिन्दू आस्था से खिलवाड़ करना कोई नई बात नहीं है. हाल ही में पंजाब के लवली यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर ने भगवान राम के प्रति घृणित शब्द कहे हैं. जिसका विडियो वायरल होने के बाद यूनिवर्सिटी ने स्टेटमेंट जारी कर माफ़ी भी मांगी है. जिसके बाद यूनिवर्सिटी ने प्रोफेसर को बर्खास्त कर दिया है. साथ ही इस घटना पर खेद भी जताया है. यूनिवर्सिटी ने कहा, “भगवान राम का अपमान करने वाली प्रोफेसर का वीडियो सामने आने के बाद उसे बर्खास्त कर दिया गया है.”

बयान में कहा गया है, “हम यह भली-भाँति समझते हैं कि सोशल मीडिया पर शेयर किए गए वीडियो से कई लोग आहत हुए हैं, जिसमें हमारी यूनिवर्सिटी की एक प्रोफेसर को उनकी व्यक्तिगत राय रखते हुए सुना जा सकता है.” विश्वविद्यालय ने आगे कहा, “हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि यह उनका व्यक्तिगत विचार है, जिसका विश्वविद्यालय किसी भी प्रकार से समर्थन नहीं करता है. हमारा धर्मनिरपेक्ष विश्वविद्यालय है, जहाँ सभी धर्मों और जाति के लोगों के साथ प्यार और सम्मान के साथ समान व्यवहार किया जाता है.”

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में बर्खास्त प्रोफेसर गुरसंग प्रीत कौर भगवान राम को बुरा इंसान बताती हैं. वह कहती हैं, “राम बुरा इंसान था. राम ने रावण जैसे नेक दिल इंसान के साथ छल किया.” कौर वीडियो में अपने छात्रों को बता रही हैं कि राम ने रावण का वध करने के लिए सीता के अपहरण की साजिश रची थी, ना कि रावण की, जिसने सीता का अपहरण किया और उन्हें लंका ले गया.

वह यहीं नहीं रुकतीं. बार-बार एक ही बात को दोहराती हैं. कौर छात्रों को भगवान राम के खिलाफ भड़काते हुए कहती हैं, “क्या आप जानते हैं कि रावण एक नेक दिल इंसान था? जबकि राम अच्छा इंसान नहीं था. राम बेहद शातिर था, जिसने चतुराई से सीता के अपहरण की योजना बनाई और रावण को बुरा इंसान साबित कर दिया.” इसके बाद प्रोफेसर छात्रों से अपने कुतर्कों पर विचार करने के लिए कहती हैं.