Pakistan : करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में पाकिस्तानी मॉडल ने किया ऐसा काम, सिखों में आक्रोश

एक पाकिस्तानी मॉडल ने करतारपुर गुरुद्वारा दरबार साहिब में महिलाओं के कपड़ों के विज्ञापन के लिए ‘नंगे सिर’ पर पोज देने के बाद विवाद खड़ा कर दिया है. पाकिस्तान में मन्नत नाम के एक ऑनलाइन क्लोदिंग स्टोर के मालिक ने क्लोदिंग ब्रांड के विज्ञापन के तौर पर मॉडल के फोटोशूट की कई तस्वीरें सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट की थीं. तस्वीरों में पाकिस्तानी महिला गुरुद्वारा दरबार साहिब के सामने लाल सलवार सूट पहने पोज देती हुई दिखाई दे रही थी, जहां उसका सिर खुला हुआ था.यहां यह उल्लेखनीय है कि गुरुद्वारे में जाते समय पुरुषों और महिलाओं दोनों को अपना सिर ढंकना पड़ता है.

गुरुद्वारा परिसर के अंदर सिर ढके बिना पोज देना बेअदबी के समान

सिख समुदाय ने विज्ञापन की आलोचना की है और कहा है कि पाकिस्तानी मॉडल द्वारा गुरुद्वारा दरबार साहिब की ओर पीठ करके ‘नंगे सिर’ की तस्वीरों ने धार्मिक समुदाय की भावनाओं को आहत किया है. दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थलों पर बदसलूकी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा परिसर के अंदर अपना सिर ढके बिना पोज देना बेअदबी के समान है. तस्वीरों में महिला लाल रंग का सूट पहने बिना सिर ढके कैमरे के सामने पोज देती हुई नजर आ रही है, जिसके बैकग्राउंड में गुरुद्वारा दरबार साहिब है.

मॉडल और उनकी टीम ने मांगी माफी

पाकिस्तानी मॉडल की तस्वीरें पोस्ट करने वाली टीम के एक सदस्य ने विवाद के बाद एक वीडियो संदेश जारी किया और प्रतिक्रिया के बाद माफी मांगी. उन्होंने कहा, ‘पोस्ट से हमारा कोई सीधा संबंध नहीं था क्योंकि हमने किसी को ऐसा फोटोशूट करने का निर्देश नहीं दिया था, यह एक ब्लॉगर सहयोग था जिसके कारण हमने गलती की थी..हम इसे ध्यान में रखेंगे और पूरी कोशिश करेंगे कि भविष्य में इसे न दोहराएं.”

मॉडल ने अपने अकाउंट पर पोस्ट की गई तस्वीरों के लिए माफी मांगी है और कहा है कि ये तस्वीरें किसी फोटोशूट का हिस्सा नहीं थीं. उन्होंने कहा, ‘हाल ही में मैंने इंस्टाग्राम पर एक तस्वीर पोस्ट की थी जो किसी शूट या किसी चीज का हिस्सा भी नहीं थी. मैं अभी इतिहास जानने और सिख समुदाय के बारे में जानने के लिए करतारपुर गई थी. यह किसी की भावनाओं या उस मामले के लिए कुछ भी आहत करने के लिए नहीं किया गया था. हालांकि, अगर मैंने किसी को चोट पहुंचाई है या उन्हें लगता है कि मैं उनकी संस्कृति का सम्मान नहीं करती हूं तो मुझे क्षमा करें.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.