“भक्त एग्जिट पोल पर विश्वास नहीं करते हैं, NDTV रवीश तुम्हारा चेहरा देखकर अनुमान लगा लेते हैं” रोते हुए चेहरे पर ट्रोल हुए रविश कुमार (Ravish Kumar)

उत्तर प्रदेश चुनाव 2022 के नतीजे आ चुके हैं. बीजेपी 268 सीटों के साथ हुई प्रचंड बहुमत से एक बार फिर से सरकार में आ रही है. एक बहुत ही पुराने न्यूज़ चैनल पर अभी भी बीजेपी की जीत का रोना चल रहा है. महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और कई ऐसे मुद्दे हैं जिस का रोना कभी खत्म नहीं होगा. भले ही बाकी दिनों में एनडीटीवी चैनल की टीआरपी ठीक न रहती हो और इस चैनल के दर्शन भी लोगों को न मिलते हों. लेकिन वोटिंग के दिनों में ऐसा नहीं होता उस दिन भाजपा की जीत की स्थिति में लोग केवल रवीश कुमार का सूजा हुआ चेहरा देखने के लिए एनडीटीवी ऑन करते हैं. क्योंकि रवीश कुमार शुरू से ही अपने दु:खी मन से दर्शकों को इंटरटेन करते रहते हैं.

इसका ताजा अपडेट गुरुवार को दिखा जब उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की जीत से रवीश कुमार दु:खी पाए गए. कुछ लोग यह भी बता रहे हैं कि मणिपुर और उत्तराखंड में भाजपा को मिल रहे बहुमत ने उनके घाव पर नमक का काम किया. वहीं गोवा में बीजेपी (BJP) सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है. इसका दु:ख तो रवीश कुमार के लिए पूरी तरह असहनीय हो गया. हां, लेकिन एक बात इसमें साफ़ है कि पंजाब में अरविंद केजरीवाल की पार्टी आप 92 सीटें जीतकर एक अच्छी छलांग की तरफ बढ़ रही है. इसलिए जहां भी पंजाब की बात हुई है, रवीश कुमार के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ पड़ी. इसी वजह से एनडीटीवी (NDTV) पर अधिकतर समय पंजाब की चर्चाएं चलती रहीं. साथ ही राघव चड्ढा जैसे आम आदमी पार्टी के नेता यहां बैठकर अपनी बात रखते रहे.

वहीँ रवीश कुमार के चेहरे को देखकर उन्हें सोशल मीडिया पर लोग ट्रोल भी करने लगे.

दिनेश प्रताप सिंह चौहान नाम के एक यूजर ने लिखा, “सार्वजनिक सूचना रवीश कुमार ने आयोजित की है जरूर पधारें”

एक अन्य यूजर ने लिखा कि दिन भर रवीश कुमार इसी बात का विश्लेषण कर रहे हैं कि पंजाब में कैसे भाजपा हार रही है. बता दें कि पंजाब में भाजपा जीत की दौड़ में पहले भी नहीं थी और उसे बस अपना वोट प्रतिशत सुधारना था.

एक अन्य यूजर ने दावा किया कि आजकल ‘भक्त’ लोग एग्जिट पोल पर विश्वास करने की बजाए रवीश कुमार का चेहरा ही देख लेते हैं. लोगों का कहना है कि रवीश के चेहरे के हाव-भाव से पता चल जाता है कि भाजपा चुनाव जीत रही है या फिर हार रही है.

एक यूजर ने लिखा, “सिर्फ महसूस कर सकते हैं आपके दर्द को, मौलाना रवीश कुमार.”

धर्मेंद्र सिन्हा नाम के यूजर ने लिखा, “रवीश कुमार बार बार एक ही लाइन गा रहा है, उत्तर प्रदेश में गिनती बहुत धीमी चल रही है. इसका उद्देश्य एक ही है, आग लगवाना.” बता दें किरवीश कुमार बार-बार इस बात पर जोर दे रहे थे कि मतगणना धीमी चल रही है और अपने रिपोर्टर्स से भी पूछ रहे थे कि मतगणना की स्पीड क्या है.

बता दें कि रवीश कुमार अक्सर अपने भाजपा विरोधी रुख के कारण चर्चा में रहते हैं और इस दौरान वो अजीबोगरीब बातें भी करते हैं. उन्हें चुनाव प्रचार के दौरान अखिलेश यादव के साथ भी देखा गया था, पिछले चुनाव में उन्हें मायवती के मंच पर पीछे खड़े भी देखा गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *