“मैं भगवान शिव का भक्त हूं, मेरे पूर्वज राजपूत थे”: मुस्लिम शख्स शेख जाफर कुरैशी ने एमपी में की घर वापसी, अपनाया सनातन धर्म

मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में शनिवार को शेख जाफर कुरैशी नाम के एक मुस्लिम शख्स ने इस्लाम त्याग कर हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया. 46 वर्षीय शेख को पशुपतिनाथ मंदिर में महामंडलेश्वर स्वामी चिदंबरानंद सरस्वती द्वारा अनुष्ठान पूजा करके हिंदू धर्म की दीक्षा दी गई थी. 28 मई से शेख जफर कुरैशी को उनके नए नाम चेतन सिंह राजपूत से जाना जाएगा.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अनुष्ठान पूजा का आयोजन अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद महाननिर्वाणी संघ के महामंडलेश्वर स्वामी चिदंबरानंद सरस्वती ने किया था. कुरैशी को अपना नया नाम देने वाले स्वामी ने उनसे अपने शरीर को गाय के गोबर और पवित्र गौमूत्र से साफ करने को कहा. महामंडलेश्वर स्वामी चिदंबरानंद सरस्वती ने कहा कि धार्मिक अनुष्ठान धर्मांतरण के लिए नहीं, बल्कि घर वापसी के लिए किया जाता था.

इस बीच कुरैशी ने भी इस प्रक्रिया को ‘घरवापसी’ कहा. उन्होंने कहा कि वह बचपन से ही हिंदू धर्म का पालन करते रहे हैं और उन्हें कट्टर सोच रखने वाले इस्लामवादी लोग कभी पसंद नहीं आए. उन्होंने कहा, “मैं अब खुश हूं कि मैं एक हिंदू हूं. मैं बचपन से ही मंदिरों में जाता रहा हूं. बाद में मैंने हिंदू रीति-रिवाजों का पालन करना शुरू कर दिया था. नवरात्रि के समय भी मैं 9 दिनों तक उपवास रखता था.” आगे उन्होंने कहा कि “मैंने एक हिंदू महिला से शादी की थी और पूरी तरह से हिंदू धर्म का पालन कर रहे थे. आज मैं कहूंगा कि मुझे अभी एक नया नाम मिला है और यह धार्मिक अनुष्ठान पूजा सिर्फ एक औपचारिकता थी. मैं हिंदू था और हिंदू ही रहूंगा.”