हिन्दू नेता के हत्यारे पर खालिस्तानियों ने बरसाए फूल, पंजाब में कॉपी हो रहा PAK का ‘ईशनिंदा मॉडल’, पहले भी हो चुकी हैं बेअदबी के नाम पर हत्याएं

पाकिस्तान में ईशनिंदा के नाम पर भीड़ द्वारा हत्याएं हो जाती है. उसके बाद आरोपियों का समर्थन किया जाता है. पंजाब का हाल भी कुछ ऐसा ही हो गया है. जहां हत्या के आरोपियों पर फूल बरसाए जा रहे हैं. ये सब देखकर ऐसा लग रहा जैसे हम हिंदुस्तान नहीं बल्कि पाकिस्तान में रह रहे हों.

पंजाब के अमृतसर में कुछ दिनों पहले हिन्दू नेता सुधीर सूरी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. अब उस हत्या के आरोपी पर अदालत में पेशी के दौरान फूल बरसाए गए हैं. इस घटना का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. विडियो देखकर साफ़ स्पष्ट हो रहा है कि कुछ लोग हत्या के आरोपी का समर्थन कर रहे हैं और तलवार लहरा रहे हैं. सुधीर सूरी की हत्या के बाद कई खालिस्तानियों के भड़काऊ बयान भी जारी हुए थे.

आरोपी को खालिस्तानियों का समर्थन देख ऐसा लग रहा जैसे हम हिंदुस्तान नहीं बल्कि पाकिस्तान में रह रहे हों. पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोपियों का समर्थन किया जाता है और ‘ईशनिंदा’ के आरोप में भीड़ द्वारा हत्या तक कर दी जाती है. अब पंजाब में भी ऐसा ही हो रहा है. पाकिस्तान में हाल ही में एक श्रीलंका के नागरिक की भीड़ ने हत्या कर दी थी और खुलेआम शव जला दिया था. वहाँ ईशनिंदा के नाम पर गैर-मुस्लिमों को निशाना बनाया जाना आम बात है. अब खालिस्तानी पंजाब में यही सब कर रहे हैं.

याद कीजिए, खालिस्तानियों के प्रभाव वाले उस ‘किसान आंदोलन’ में भी कथित ‘बेअदबी’ के आरोप में हिंसा की घटनाएँ हुई थीं. दिल्ली की सीमाओं को एक साल तक घेरे रख कर रोज लाखों लोगों को परेशान करने वाले ये कथित ‘किसान’ कोरोना के नियमों का उल्लंघन करते रहे, ‘बेअदबी’ के आरोप में हत्याएँ करते रहे – किसी ने इन्हें रोकने की जहमत नहीं उठाई. 26 जनवरी, 2022 को लाल किले से लेकर पूरी दिल्ली में हिंसा का जो प्रदर्शन हुआ, वो भी हमने देखा.

ये भी पढ़ें: “जब भीड़ सिस्टम पर हावी होती है, तब सरकारें निक्कमी हो जाती हैं” तस्वीरें बताती हैं, जब भीड़ तंत्र के आगे नतमस्तक हुई सरकार

जनवरी 2022 को पंजाब के लुधियाना के एक गुरुद्वारे में बेअदबी के आरोप में एक महिला पर निहंग सिख ने तलवार से हमला किया. तलवार महिला के पैरों में लगी, जिसके कारण वो बुरी तरह से घायल हो गई. सिंघू बॉर्डर किसान प्रदर्शन स्थल पर श्री गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी के आरोप में 14 -15 अक्टूबर 2021 को पंजाब के ही रहने वाले लखबीर सिंह नाम के व्यक्ति की सिखों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी. उसका दाहिना हाथ काट दिया गया था और उसके शव को निहंगों ने कुंडली सीमा पर एक बैरिकेड्स पर लटका दिया था.

ये भी पढ़ें: टीटू दिल का कभी बुरा नहीं था… जिसे काटकर कुंडली बॉर्डर पर टांग दिया, पत्नी ने कहा- जरूर किसी ने पैसों का लालच दिया होगा

इसी तरह से 1 और 2 जुलाई 2021 की मध्यरात्रि को पंजाब के गुरदासपुर (Gurudaspur) में एक गाँव में एक गुरुद्वारे में सेना के जवान दीपक कुमार की मॉब लिंचिंग कर दी गई थी. दीपक पर भी श्री गुरु ग्रंथ साहिब की कथित बेअदबी का आरोप लगाया गया था. वारदात के बाद पुलिस ने इस मामले में दलजीत सिंह कश्मीर उर्फ ​​बॉबी समेत अन्य को मुख्य आरोपित बनाया था. वहीं दमदमी टकसाल जत्था राजपुरा, अभिनेता से कार्यकर्ता और गणतंत्र दिवस दंगों के आरोपित दीप सिंधु समेत कई और लोगों ने उसका समर्थन करते हुए मॉब लिंचिंग को सही ठहराया था.