Kedarnath Yatra 2022: बारिश और खराब मौसम से केदारनाथ में फंसे 10 हजार श्रद्धालु, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

चमोली. घना कोहरा छाने और बिगड़ते हुए मौसम को देखते हुए जिला प्रशासन ने केदारनाथ यात्रा पर तत्कार प्रभाव से रोक लगा दी है. इसी के साथ केदारनाथ धाम के मार्ग में फेंस श्रद्धालुओं के लिए अलर्ट जारी किया है. श्रद्धालुओं से प्रशासन ने अपील करते हुए है कि जो जहां है वो वहीं रहे और सतर्कता बरते. बताया जा रहा है कि बारिश और कोहरे के कारण प्रशासन ने करीब 10 हजार श्रद्धालुओं को गौरीकुंड, सोनप्रयाग, गुप्तकाशी, अगस्त्यमुनि और रुद्रप्रयाग में रोका दिया है.

बताया जा रहा कि सोमवार 23 मई को केदारनाथ यात्रा मात्र एक घंटे चल सकी. सुबह 08 बजे शुरू हुई यात्रा को बारिश के कारण 09 बजे रोक दिया गया. बताया जा रहा है कि प्रशासन ने मंगलवार तक बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए यात्रा पर रोक लगा दी. हालांकि, सोमवार सुबह एक घंटे तक चली यात्रा में करीब 8530 श्रद्धालु केदारनाथ के लिए रवाना हो गए थे. लेकिन इसके बाद केदारघाटी व केदारनाथ में तेज बारिश और घना कोहरा छाने के चलते प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से यात्रा रोक दी.

रिपोर्ट्स के अनुसार, इस दौरान रुद्रप्रयाग से गुप्तकाशी तक जगह-जगह पांच हजार यात्रियों को रोक दिया गया. वहीं, सोनप्रयाग में 2000 और गौरीकुंड में 3200 यात्रियों को रोका गया. सुबह 9 बजे के बाद यात्रियों को सोनप्रयाग से केदारनाथ के लिए नहीं भेजा गया, जो यात्री 8 बजे तक धाम के लिए रवाना हुए थे। उन्हें पुलिस और अन्य सुरक्षा जवानों की मौजूदगी में हल्की बारिश के दौरान धीरे-धीरे आगे बढ़ाया गया. इस दौरान जहां पर भी बारिश तेज हुई, यात्रियों को रोक दिया गया.

प्रशासन के मुताबिक, दोपहर बाद तक पैदल मार्ग से 45 फीसदी से अधिक यात्री सकुशल यात्री धाम पहुंच गए थे. शेष यात्री भी देर शाम तक धाम पहुंच जाएंगे. तो वहीं, दूसरी तरफ बारिश के चलते केदारनाथ में भी 3200 यात्री राके गए. खराब मौसम के चलते केदारनाथ से भी नीचे के लिए किसी यात्री को जाने की अनुमति नहीं दी गई. जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को लेकर सोनप्रयाग से केदारनाथ तक सुरक्षा बलों को मुस्तैद कर दिया गया है. साथ ही, श्रद्धालुओं से कहा गया है कि जो जहां है वो वहीं रहे और सतर्कता बरते.