जेईई मेन: अब एक साल में चार बार नहीं हो सकेगा, नीट भी जुलाई के बाद संभव

आईआईटी बॉम्बे से जेईई एडवांस्ड का शेड्यूल जारी होने के साथ ही जेईई मेन की स्थिति साफ हो गई. मेन इस साल चार बार किसी भी हाल में नहीं हो सकेगी. मेन की तारीखें जल्द घोषित होंगी, लेकिन 8 जून से पहले एनटीए को जेईई के मल्टीपल सेशंस का परिणाम और ऑल इंडिया रैंक जारी करनी होगी. एडवांस्ड का रजिस्ट्रेशन 8 जून से है. मार्च में राजस्थान सहित कई स्टेट बोर्ड और अप्रैल अंत में सीबीएसई के फाइनल एग्जाम होंगे. ऐसे में जेईई मेन का कोई एक सेशन सीबीएसई या किसी स्टेट बोर्ड से क्लैश हो सकता है. दो मार्च से सीबीएसई की प्रैक्टिकल परीक्षा होगी. एक्सपर्ट के अनुसार छात्रों को जेईई मेन के अलग-अलग सेशन की तैयारियों के लिए कम समय मिलेगा. एनटीए जून तक जेईई मेन में व्यस्त होगा. इससे नीट जुलाई के पहले सप्ताह के बाद होगी. जेईई मेन की फॉर्म फिलिंग जल्द शुरू होगी. सीबीएसई के प्रैक्टिकल एग्जाम और फॉर्म फिलिंग क्लैश हो सकती है.

स्टूडेंट्स को तैयारी में नहीं मिलेगा गैप

जेईई मेन के सेशंस में अधिक गैप नहीं मिलेगा. मल्टीपल मेन इसलिए था ताकि एक अटैम्पट बिगड़ने पर छात्र दूसरे सेशन की बेहतर तैयारी कर लें. लेकिन दोनों के सेशन के बीच इस साल पर्याप्त गैप न होने पर तैयारी का समय सीमित होगा. जेईई मेन के परिणाम और एडवांस्ड की परीक्षा के बीच ज्यादा समय नहीं मिलेगा.