“बौद्ध स्थल को तोड़कर बना है जगन्नाथ मंदिर”, ओवैसी ने की जगन्नाथ मंदिर पर विवादित टिप्पणी, FIR दर्ज

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी को पुरी के एक सामाजिक-राजनीतिक समूह ने जगन्नाथ मंदिर पर उनकी विवादास्पद टिप्पणी के लिए गिरफ्तार करने की मांग करते हुए एक शिकायत दर्ज की है. जगन्नाथ मंदिर को लेकर ओवैसी की विवादित टिप्पणी को लेकर सोमवार को तीर्थ नगरी पुरी में ओवैसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी हुए.

बौद्ध पूजा स्थल को तोड़कर बनाया गया है जगन्नाथ मंदिर: ओवैसी

मई में, महाराष्ट्र के भिवंडी में एक रैली को संबोधित करते हुए, AIMIM सांसद ने स्वामी विवेकानंद के हवाले से कहा कि श्री जगन्नाथ मंदिर एक बौद्ध पूजा स्थल को तोड़कर बनाया गया था. ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के बीच राजनीतिक समूहों ने उनके बयान पर तीखी टिप्पणी की.

बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा ने भी कभी नहीं कही ये बात

इस बीच, पत्रकारों से बात करते हुए जगन्नाथ सेना के संयोजक प्रियदर्शन पटनायक ने कहा, “हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी एक शातिर व्यक्ति हैं. वह चाहता है कि लोग धर्म को लेकर टकराव में लिप्त हों. उन्होंने कहा कि ओवैसी की यह बात झूठ है आजतक किसी ने ऐसा नहीं कहा. बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा ने भी कभी ये बात नहीं बोली है. इतिहासकारों के अनुसार, इंद्रद्युम्न के युग से लेकर चोदगंगादेव तक जगन्नाथ मंदिर धीरे-धीरे बदल गया है.”

ओडिशा के संगठन कर रहे AIMIM चीफ की गिरफ़्तारी की मांग

ओवैसी की इस टिप्पणी को लेकर ओडिशा के संगठनों ने AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. ये लोग हाथों में ओवैसी के पोस्टर लेकर उनके खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. इन पोस्टर में ओवैसी की फोटो के साथ “पॉयजन मैन” जैसे स्लोगन लिखे हैं. इसके साथ ही ये लोग ओवैसी मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए AIMIM चीफ की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं.