नमकीन पैकेट पर ‘उर्दू में डिक्रिप्शन’ को लेकर हल्दीराम ट्विटर पर हो रहा ट्रेंड, जानें पूरा मामला

प्रतिष्ठित नमकीन निर्माता कंपनी हल्दीराम बुधवार को उर्दू भाषा में ‘नमकीन’ की कथित पैकेजिंग को लेकर विवादों में आ गया. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक सुदर्शन न्यूज़ के एक मीडियाकर्मी को हल्दीराम आउटलेट के स्टोर सुपरवाइजर से पैकेट की पैकेजिंग को लेकर सवाल करते देखा जा सकता है. नमकीन पैकेट में से एक में उर्दू भाषा में दिशा-निर्देश लिखे होते हैं. नमकीन पैकेट में 2 भाषाओं में दिशा-निर्देश लिखे होते हैं – आगे की तरफ अंग्रेजी और पीछे की तरफ उर्दू तथा यह पैकेट फल्हारी मिक्सचर का है.

पैकेजिंग को लेकर विवाद क्यों:

चूंकि फल्हारी मिक्सचर नवरात्रि में व्रत के दौरान खाए जाने वाले लोकप्रिय नाश्ते में से एक है, इसलिए उर्दू में इसकी पैकेजिंग ने विवाद खड़े कर दिए हैं. वास्तव में, लोकप्रिय खाद्य ब्रांड ने अपनी वेबसाइट पर उल्लेख किया है कि फलहारी मिक्सचर को नवरात्रि और अन्य उपवास के दिनों के लिए विशेष बनाया गया है. हालांकि पैकेट हरे शाकाहारी प्रतीक को प्रदर्शित करता है, लेकिन अन्य धर्मों द्वारा प्रचलित भाषा में इसकी पैकेजिंग को लेकर कड़ी आपत्ति है. ट्विटर पर कई लोगों ने ब्रांड द्वारा इस तरह के दोषपूर्ण व्यवहार का विरोध किया.

हल्दीराम आउटलेट पर क्या हुआ?

सुदर्शन न्यूज़ के वीडियो में, एक महिला रिपोर्टर को स्टोर मैनेजर को घेरते हुए और उर्दू भाषा में नमकीन की पैकेजिंग को लेकर बार-बार उससे पूछताछ करते देखा जा सकता है. रिपोर्टर ने पूछा, क्या इसके पीछे कोई एजेंडा है? क्या स्टोर या ब्रांड कुछ छुपाने की कोशिश कर रहा है? जब यह प्रोडक्ट उपवास के लिए निर्मित है तो ब्रांड ने उस पर उर्दू में दिशा-निर्देश का उल्लेख क्यों किया है?

स्टोर मैनेजर शांत रहने का प्रयास करती है तथा कोई ठोस जवाब नहीं देती है. वह रिपोर्टर को बताती है कि पैकेट के अंदर का खाना स्वास्थ्य के लिए खतरा नहीं है और उपभोग करने के लिए सुरक्षित है. जहां दोनों ने नमकीन की पैकेजिंग को लेकर बहस की वहीं लोगों की भीड़ उन्हें देखते हुए देखी जा सकती है. वायरल वीडियो को 10 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है और इसने ट्विटर के टॉप ट्रेंड्स में अपनी जगह बना ली है.