पहले दिया पाकिस्तान का साथ, अब भारत से मदद की उम्मीद लगा बैठा है यूक्रेन

कश्मीर, परमाणु परीक्षण, गलवान मुद्दे पर भारत का साथ न देने वाले यूक्रेन की मदद क्यों करे भारत ?

रूस-यूक्रेन मामले पर सबकी नजरें भारत पर अटकी पड़ी हैं. सब यही आस लगाए बैठे हैं कि भारत रूस के खिलाफ लड़ाई में यूक्रेन का साथ दे. जबकि भारत के प्रधानमंत्री ने रूस के राष्ट्रपति से फोन पर बात करते हुए शांति की अपील की है. लेकिन भारत और रूस के जो संबंध पहले से बने हुए हैं, उसे देखकर यही लगता है कि भारत को युद्ध में यदि साथ देना पड़ा तो वह रूस का ही देगा. ये सुनने में आपको अजीब लगे लेकिन यह एक कड़वी सच्चाई है.

न तो कश्मीर वाले मामले में, न तो भारत ने परमाणु परीक्षण किया तब, न जब चीन ने गलवान को अंजाम दिया तब यूक्रेन ने भारत का साथ नहीं दिया तो आज क्यों भारत यूक्रेन का साथ दे?

पिछले तीन दशकों से यूक्रेन पाकिस्तान को हथियार बेचने वाले सबसे बड़ा देश बना हुआ है. यानी पाकिस्तान की हथियारों की जरूरत यूक्रेन ही पूरा करता है. पिछले 30 वर्षों में पाकिस्तान यूक्रेन से 12 हजार करोड़ रुपये के हथियार खरीद चुका है. आज पाकिस्तान के पास जो 400 टैंक हैं, वो यूक्रेन के द्वारा ही उसे बेचे गए हैं. इसके अलावा यूक्रेन इस समय Fighter Jets की Technology और स्पेस रिसर्च में भी पाकिस्तान की पूरी मदद कर रहा है. यानी भविष्य में पाकिस्तान स्पेस में जो भी विस्तार करेगा, उसके पीछे यूक्रेन का हाथ होगा.

वर्ष 1998 में जब भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया था, उस समय संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में भारत पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाने के लिए एक प्रस्ताव लाया गया था. इस प्रस्ताव को दुनिया के जिन 25 देशों ने पेश किया था, उनमें यूक्रेन प्रमुख था. यूक्रेन ने तब संयुक्त राष्ट्र के मंच से ये मांग की थी कि भारत के परमाणु कार्यक्रम को बन्द करवा देना चाहिए और उस पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगा कर उसे अलग-थलग कर देना चाहिए. यूक्रेन उस समय पाकिस्तान की भाषा बोल रहा था. इसलिए आज जब ये बात कही जा रही है कि भारत को यूक्रेन का समर्थन करना चाहिए, तब ये बात आपको भूलनी नहीं चाहिए कि भारत के परमाणु कार्यक्रम को रोकने के लिए यूक्रेन, पाकिस्तान के साथ जाकर खड़ा हो गया था.

तो कलेजा कूटना और सरकार को कोसना बंद कीजिए. पहले जानकारी हासिल कीजिए फिर रोईए. और हाँ युद्ध बुरा है, इससे किसी का फ़ायदा नहीं होने वाला है.