रमजान में कहीं फूंके जा रहे सिगरेट, तो कहीं कराया जा रहा मसाज: जहां से शुरू हुआ इस्लाम, वहीँ के लोगों का रोजा से इंकार

इस्लाम को मानने वालों के लिए यह बहुत पाक महीना चल रहा है. जिस प्रकार हिन्दू धर्म में व्रत-उपवास के दिन बहुत सारे विधि-विधानों का पालन किया जाता है. ठीक वैसे ही, इस्लाम में भी रमजान में कई नियम व् शर्तों का पालन किया जाता है. जैसे- झूठ न बोलना, सिगरेट, मदिरा पान, सेक्स आदि से दूर रहना. इस समय भारत में बड़ी तादात में मुस्लिम रोजा रख रहे हैं. वहीँ कुछ राज्यों में हिन्दू भी रोजा रखते हैं. लेकिन इसके विपरीत मिडिल ईस्ट के कई देशों में कुछ अलग ही माहौल चल रहा है. यहां लोग रमजान के महीने में रोजा रखने से कतरा रहे हैं. ईरान की राजधानी तेहरान में ट्रैफिक के दौरान आपको लोग सिगरेट पीते हुए नजर आ जाएँगे. बताया जाता है कि मोरक्को के माराकेच में बड़ी संख्या में इस दिनों लोग ‘Raunchy massages’ कराते हैं.

फोटो – प्रतीकात्मक

रमजान के पाक़ महीने में जब मुस्लिमों को रोजा रखने और तमाम भोग विलास से दूर रहने के लिए कहा गया है. वहीँ कई मुस्लिम देशों में ये काम खुलेआम किए जा रहे हैं. The Economist की खबर के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात के दुबई में रहने वाले कुछ लोग अब अरबी शब्द हराम के बाद ‘हरमदान (Haramadan)’ महीने का मजाक उड़ाते हैं. यानी ऐसी चीजें जो वर्जित हैं, जबकि अधिकांश मध्य पूर्वी राज्य अभी भी रमजान में कुछ चीजों करने को अपराध मानते हैं.

दरअसल, रमजान इस्लामी कैलेंडर का नौवाँ महीना होता है, जिसे इबादत का सबसे पवित्र महीना माना जाता है. मुस्लिम लोग इस पूरे महीने में रोजा रखते हैं. सऊदी अरब मिस्र, कतर, इंडोनेशिया, मलेशिया, यमन और फिलीस्तीन और कई मुस्लिम देशों में रमजान का चाँद दिखने के बाद 2 अप्रैल, 2022 से रोजे शुरू हुए. कहा जाता है कि रमजान महीने में जो लोग रोजा रखते हैं, उन्हें सूरज डूबने के बाद होने वाली मगरिब अजान से पहले कुछ भी खाने या पीने की मनाही होती है. रोजे के दौरान सिगरेट पीना व जबरन उल्टी करने की सख्त मनाही होती है. इसके अलावा रोजा रखने वाले लोगों को गलत सोच व गलत गतिविधियों में शामिल होने पर पाबंदी होती है.

दशकों पहले मिडिल-ईस्ट देशों में रमजान के दौरान नियमों को तोड़ने पर लगाया जुर्माना, अब वहाँ पार्किंग के लिए लगाए गए जुर्माने से भी कम हो गया है. जिसके चलते कोई भी नियम मानने को तैयार नहीं होता है. जॉर्डन पर अधिकतम 25 दीनार (लगभग $35 यानी 2678 भारतीय रुपए) का जुर्माना है. वहीं ओमान में रोजे के दौरान नियम तोड़ने पर एक रियाल ($3 यानी 229 भारतीय रुपए) हैं. कहा जाता है कि अधिकारी ऐसे ज्यादातर मामलों में अपनी आँखें मूँद लेते हैं.

नजफ़ शहर के एक इराकी वकील कहते हैं, “वे सोशल-मीडिया से बहुत डरते हैं. रमजान में सिगरेट पीने और रोजे के दौरान मुस्लिम नियमों को तोड़ने के कई मामले कोर्ट में आते हैं.” हाल के वर्षों में जॉर्डन ने खाद्य और पेय पदार्थों को भारी कीमत पर बेचने के लिए रमजान लाइसेंस पेश किए. ऐसे में यहाँ कई मुस्लिम लोग रोजे रखने से कतरा रहे हैं. अम्मान में एक वित्तीय सलाहकार का कहना है कि उनके 25 सहयोगियों में से केवल दो ही रोजा रख कर रहे हैं.