कोलकाता में ‘बुर्ज खलीफा’ के बाद अब ‘वेटिकन सिटी’ की थीम पर बना पंडाल, चारों ओर जीसस की तस्वीरें देख भड़के लोग

कोलकाता में पिछले साल ‘बुर्ज खलीफा’ के बाद अब इस बार श्रीभूमि दुर्गा पूजा पंडाल ‘वेटिकन सिटी’ के थीम के मुताबिक आयोजित हो रहा है. इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर सामने आई हैं. पूरे पंडाल को बिलकुल उसी ढंग में बनाया गया है. बाहर से ये किसी चर्च जैसा लग रहा है. अंदर जीसस और मदर मेरी की तस्वीरें लगी हुई हैं तथा बीच में माँ दुर्गा की प्रतिमा लगाई गई है.

ये तस्वीरें देखने के बाद लोगों में नाराजगी है. उनका पूछना है कि आखिर दुर्गा पंडाल को इस तरह सजाने का क्या अर्थ? क्या कभी वेटिकन में क्रिसमस का त्योहार दुर्गा पूजा थीम पर मनाया जाता है?

कुछ ही दिनों में चंडीपाठ की जगह सुनाई देने लगे अज़ान? : यूज़र

एक यूजर ने गुस्से में लिखा है, “ये कुछ भी नहीं है. इससे ज्यादा का इंतजार करो. शायद काबा के हिसाब से पूजा पंडाल लगे और चंडीपाठ की जगह अजान सुनाई दे. वोक बंगाल में हर चीज संभव हैं खासकर कोलकाता में. ये लोग अखंडता दिखाने के लिए माँ दुर्गा को हिजाब पहना सकते हैं. बात जब कोलकाता के बंगालियों की आती है तो कुछ भी हैरान नहीं करता.”

वहीँ कीर्ति कुमार कासत लिखते हैं, “ये क्या है? अपने आपको सेकुलर दिखाने के लिए इतनी जद्दोजहद क्यों? वेटिकन का आर्किटेक्ट समझ लूँ एक बार पर फिर ये ईसाई धर्म की तस्वीरें क्यों? क्रिसमस पर चर्च चले जाओ. वहाँ भी तुम्हें हिंदू से ईसाई बना व्यक्ति बताने लगेगा कि जीसस ही असल रक्षक हैं.”

बता दें कि इससे पहले साल 2021 में श्रीभूमि दुर्गा पूजा पंडाल बुर्ज खलीफा की थीम पर आयोजित हुआ था. बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसी ऊँची इमारत है. भारी तादाद में लोग उस पंडाल को देखने आए थे. इसमें इतनी लेजर लाइट थी कि इसके खिलाफ पॉयलटों ने शिकायत की थी कि उन्हें उड़ान भरने में समस्या हैं.

ममता बनर्जी ने किया है पंडाल का उद्घाटन

अब वाला पंडाल वैसा नहीं है लेकिन इस बार विवाद इसलिए हो रहा है क्योंकि पूजा स्थल के भीतर ईसाई धर्म से जुड़ी तस्वीरें हैं. टीवी 9 की खबर के मुताबिक श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब 50 साल से पूजा पंडाल लगा रहा है. इस बार स्वर्ण जयंती है इसलिए इसका थीम वेटिकन सिटी रखा गया है. इसके आयोजकों में राज्य के दमकल मंत्री और टीएमसी के विधायक सुजित बसु हैं. खुद ममता बनर्जी ने पंडाल का उद्घाटन किया है.