Indo-Nepal Border पर हो रही खाद तस्करी,रक्षामंत्री से मिले शोहरतगढ़ विधायक विनय वर्मा

by Abhishek Seth
0 comment
  • रक्षामंत्री को कई समस्याओं से कराया अवगत

सिद्धार्थनगर। भारत-नेपाल सीमा (Indo-Nepal Border) पर खाद तस्करी एवं लुंबिनी जाने के प्रमुख मार्ग पर भंसार (प्रवेश शुल्क) की समस्या को लेकर शोहरतगढ़ विधायक विनय वर्मा गुरुवार को केन्द्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से मिले। विधायक ने रक्षामंत्री को समस्याओं से अवगत कराया।

उन्होंने बताया कि नेपाल सीमा से सटे सिद्धार्थनगर के निवासियों की कई समस्याएं हैं। भारत नेपाल के बीच रोटी बेटी का रिश्ता है। लुंबनी जाने के प्रमुख मार्ग ककरहवा बॉर्डर पर नेपाल ने वाहनों पर भंसार (प्रवेश शुल्क) लगा दिया है। दोनों देशों के इस बॉर्डर पर कभी शुल्क नहीं लगाया गया था, लेकिन कोरोना काल के बाद नेपाल ने शुल्क लगा दिया। इस कारण भारत के लोगों को आर्थिक नुकसान सहना पड़ रहा है।

खाद तस्करी से बढ़ रही समस्या

इसके अलावा विधायक ने रक्षामंत्री से भारत-नेपाल पर खाद तस्करी से भारतीयों को हो रही परेशानी के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि भारत-नेपाल सीमा पर भारतीय खाद की तस्करी हो रही है। 68 किमी सीमा खुली हुई है। सुरक्षा की समीक्षा करके पुख्ता इंतजाम होने चाहिए। नेपाल सीमा पर नेटवर्क नहीं है। खाद आवंटन में फिंगर मशीन काम नहीं करती है। एक ही इंतखाप से कई दुकानों से खाद खरीद कर तस्करी की जाती है और जिले के किसानों को नहीं मिल पाता है।

Also Read:

22 फरवरी को पेश होगा योगी 2.0 का दूसरा बजट, 20 फरवरी से 10 मार्च तक चलेगा सत्र

ABP News के कार्यक्रम में भिड़े स्वामी प्रसाद मौर्य व हनुमानगढ़ी के महंत राजूदास, हाथापाई तक पहुंचा मामला

रक्षामंत्री को सम्मानित करते विधायक विनय वर्मा

लम्बे समय से अटकी जलकुंडी परियोजना

इसके साथ ही विधायक विनय वर्मा ने रक्षामंत्री को लंबे समय से अटकी पड़ी जलकुंडी परियोजना की आवश्यकता के बारे में भी अवगत कराया। उन्होंने कहा कि शोहरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र के दो तिहाई  भारत पंचायत हर वर्ष बाढ़ की विभीषिका झेलने को मजबूर होती हैं। बाढ़ से निजात के लिए भारत नेपाल के बीच तीन दशक पहले जल कुंडी परियोजना पर सहमति बनी थी। इसमें बाढ़ का पानी नेपाल में रोककर बिजली बनाने और सिंचाई सुविधा विकसित करने की योजना थी लेकिन इस सहमति पर आगे कार्य नहीं हुआ। इससे सिद्धार्थनगर सहित आसपास के जिलों में बाढ़ से बचाव होता और जन धन हानि नहीं होती।

विधायक द्वारा अवगत कराए गए तीन बिंदुओं पररक्षामंत्री भारत सरकार राजनाथ सिंह ने गंभीरता पूर्वक विचार कर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

You may also like

Leave a Comment

cropped-tffi-png-1.png

Copyright by The Front Face India 2023. All rights reserved.