The Kerala Story का कश्मीर फाइल्स जैसा विरोध, रिलीज़ रोकने एक हुए वामपंथी-कांग्रेसी, डीजीपी ने दिए FIR के आदेश

द केरल स्टोरी के टीज़र रिलीज़ के बाद से ही कांग्रेसी और वामपंथी गैंग का हाल ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ वाला हो गया है.

वामपंथियों का गढ़ कहे जाने वाले केरल को लेकर फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ (The Kerala Story) बनाई जा रही है. जिसे लेकर वामपंथी खेमा अब एक हो चुका है. इसका भी विरोध ‘द कश्मीर फाइल्स’ (The Kashmir Files) की तरह ही हो रहा है. दोनों फ़िल्में सच्ची घटनाओं पर आधारित हैं. विवेक अग्निहोत्री की फिल्म द कश्मीर फाइल्स में कश्मीर में हिन्दुओं के दमन और उन पर अत्याचार को दिखाया गया था. वहीँ विपुल अमृत लाल शाह की फिल्म द केरल स्टोरी में इस्लामी धर्मांतरण को दिखाया गया है. फिल्म में उन महिलाओं की पीड़ा को दिखाया गया है, जो इस्लामी धर्मांतरण और तस्करी का शिकार हुई.

द केरल स्टोरी का टीजर गुरुवार (3 नवंबर 2022) को यूट्यूब पर रिलीज किया गया था. टीजर में एक ऐसी महिला की कहानी दिखाई गई है जो नर्स बनने का सपना देखती थी. लेकिन घर से अगवा कर उसे आईएसआईएस आतंकवादी बना दिया गया. फिल्म में एक्ट्रेस अदा शर्मा लीड रोल में हैं. टीजर में बुर्का पहने हुए वह कहती हैं, “मेरा नाम शालीनी उन्नीकृष्णन था. मैं नर्स बनकर लोगों की मदद करना चाहती थी. अब मैं फातिमा बा हूँ. एक आईएसआईएस (ISIS) आतंकवादी, जो अफगानिस्तान की जेल में बंद है. मैं अकेली नहीं हूँ. मेरी जैसी 32000 और लड़कियाँ कन्वर्ट होकर सीरिया और यमन में दफन हो चुकी हैं.”

इसके बाद से ही इस फिल्म को रोकने के लिए पूरा गिरोह सक्रिय हो गया है. केरल में राजनीतिक तौर पर कॉन्ग्रेस और वाम दल भले दो छोर पर खड़े दिखते हों, लेकिन इस फिल्म के विरोध पर दोनों एक सुर में बात कर रहे हैं. वे इस फिल्म को राज्य की छवि को धूमिल करने का प्रयास बता रहे हैं.

कॉन्ग्रेस ने फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की माँग की है. केरल विधानसभा में कॉन्ग्रेस के नेता वीडी सतीशन ने कहा कि फिल्म गलत सूचना फैलाती है और इसे प्रतिबंधित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, “मैंने टीज़र देखा है. यह गलत सूचना का एक स्पष्ट मामला है. केरल में ऐसा कुछ नहीं हो रहा है. यह अन्य राज्यों के सामने केरल की छवि खराब करने के लिए है. यह नफरत फैला रहा है, इसलिए इसे प्रतिबंधित किया जाना चाहिए. सामान्य तौर पर, हम फिल्मों पर प्रतिबंध लगाने के खिलाफ हैं, लेकिन इस प्रकार की गलत सूचना से सांप्रदायिक मुद्दे पैदा होंगे. राज्य पुलिस के पास भी ऐसा कोई रिकॉर्ड नहीं है.”

वहीं सीपीआई (एम) के राज्यसभा सांसद जॉन ब्रिटास ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर ‘द केरल स्टोरी’ के टीजर के खिलाफ कार्रवाई का आग्रह किया है. उन्होंने अपने पत्र में कहा कि फिल्म का टीजर झूठी सूचना का प्रसार कर रहा है. यह सार्वजनिक शांति को भंग कर सकता है और इसके पीछे केरल को बदनाम करने की मंशा है.

वहीं केरल के पुलिस महानिदेशक अनिल कांत ने मंगलवार (7 अक्टूबर 2022) को तिरुवनंतपुरम के पुलिस आयुक्त स्पर्जन कुमार को फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ के क्रू मेंबर के खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया. इससे पहले सोमवार को तमिलनाडु के एक पत्रकार बीआर अरविंदक्षण ने फिल्म प्रमाणन बोर्ड के प्रमुख प्रसून जोशी और अन्य को पत्र लिखकर फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की माँग की थी . उन्होंने कहा था कि जब तक कि निर्माता अपने दावों के लिए पर्याप्त सबूत पेश नहीं करते, फिल्म पर प्रतिबन्ध लगा देना चाहिए.