Khesari Lal Yadav Birthday: कभी भैंस का दूध बेचकर करते थे गुज़ारा, आज हैं भोजपुरी के सुपरस्टार, करोड़ों की संपत्ति के हैं मालिक

भोजपुरी सिनेमा जगत के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव 15 मार्च को अपना बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं. उनके इस खास दिन पर भोजपुरी के कई सितारे उन्हें जन्मदिन के शुभकामनाएँ दे रहे हैं. भोजपुरी एक्ट्रेस आम्रपाली दुबे ने खेसारी के साथ उनकी आने वाली फिल्म की फोटो शेयर करते हुए लिखा,“ हैप्पी बर्थडे खेसारी जी, भगवान आपको हमेशा स्वस्थ रखे, मस्त रखे, ऐसे ही अपने चाहने वालों के दिलों पर राज करते रहिये.” खेसारी के इस खास दिन पर हम आपको बताने जा रहे हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ किस्से-

बचपन में भैंस चराते वक़्त भी गाते थे गाना

उनके एक करीबी दोस्त के मुताबिक उन्हें भोजपुरी गानों का शौक बचपन से ही था. भोजपुरी सिनेमा में तहलका मचाने से पहले खेसारी बिहार के सिवान जिले में भैंस चराया करते थे. उस वक़्त उनकी उम्र मात्र 14 साल थी. इस दौरान वे खूब भोजपुरी गाने गया करते थे.

दूध बेचकर व लौंडा डांस करके कमाते थे पैसे

बिहार के लाल खेसारी यादव के पिता चना बेचकर बड़ी मुश्किल से घर का खर्च चला पाते थे. घर की विषम परिस्थितियों को देखते हुए खेसारी लाल बिहार के छपरा जिले में दूध बेचा करते थे. गाने के अलावा वे “लौंडा डांस” करने के भी शौक़ीन थे. “लौंडा डांस” में एक पुरुष महिलाओं की पोषक में नृत्य करता है. गाँव में जब भी कहीं शादी होती थी तो वे लौंडा डांस करके पैसे कमाते थे. लेकिन इन सब से उनके परिवार का पालन-पोषण संभव नहीं हो पाता था.

बीएसएफ की नौकरी छोड़ गाने में लगा करियर

गाँव में ही उन्होंने बीएसएफ की तैयारी की तथा कड़ी मेहनत के बाद उनकी जॉइनिंग भी हो गई. नौकरी लगने के बाद फुर्सत के पलों में वे अपने साथियों को गाना सुनाया करते थे जिससे यह पाता लगता है कि उनका मन तब भी सिंगिग में ही लगा रहता था. यह देखते हुए उनके साथियों ने भी उनका उत्साहवर्धन किया तथा वे बीएसएफ की नौकरी छोड़कर सिंगिंग में करियर बनाने के उद्देश्य से दिल्ली के लिए निकल पड़े.

वे दिल्ली चले तो गए लेकिन वहां खेसारी लाल यादव अपने एल्बम निकालने के लिए भटकते रहें. बावजूद इसके उनका एल्बम रिलीज नहीं हो पाया. ऐसे में परिवार का खर्च उठाना भारी पड़ गया. फिर उन्होंने ठेले पर लिट्टी-चोखा बेचना शुरू किया. इससे जो कमाई हुई उन पैसों से खेसारी ने ‘माल मोटाई मेला’ नाम से भोजपुरी एल्बम शूट किया. यह गाना लोगों को खूब पसंद आया. इस गाने की वजह से उनका करियर ही बदल गया.

जब गाने की वजह से जाना पड़ा था जेल

अपने एक गाने की वजह से खेसारी जेल भी जा चुके हैं. खेसारी लाल यादव को जेल भेजने वाली थीं टेनिस प्लेयर सानिया मिर्ज़ा. उस वक़्त खेसारी लाल यादव और सानिया मिर्ज़ा के बीच मान-सम्मान की बात आ गई थी. दरअसल जब खेसारी का एल्बम ‘बोल बम’ रिलीज़ हुआ था, तो उसमें उन्होंने एक गाना सानिया मिर्ज़ा के नाम पर बनाया था. गाने के बोल थे- “काहे सानिया मिर्ज़ा दूल्हा खोजले पाकिस्तानी”. यह गाना सानिया मिर्ज़ा को रास न आया और उन्होंने खेसारी के ऊपर मानहानि का केस कर दिया. इसी वजह से खेसारी लाल यादव को तीन दिन तक तिहाड़ जेल की हवा भी खानी पड़ी थी.

2012 में किया था डेब्यू

भोजपुरी इंडस्ट्री के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव ने ‘साजन चले ससुराल’ मूवी से भोजपुरी सिनेमा में डेब्यू किया था. इस फिल्म को दर्शकों ने खूब सराहा और इस फिल्म ने ही खेसारी की अलग ही पहचान बना दी. इसके बाद 2013 में उन्होंने पांच फिल्मों में काम किया. सभी फिल्में हिट रहीं. अब तक खेसारी 60 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं.