भूत और भभूत संग निकली ‘शिव बारात’, द्वापर से कलयुग तक की दिखी गाथा

वाराणसी. काशी पुराधिपति का भव्य धाम अब लोकार्पण के लिए तैयार है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 दिसंबर को इसे विश्व को समर्पित करेंगे. इस भव्य विश्वनाथ धाम के लोकार्पण से पहले देवाधिदेव की नगरी ने एक खास उत्सव शिव बारात निकालकर शनिवार को मनाया. प्रारंभ में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश सरकार की है राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ नीलकंठ तिवारी ने मैदागिन पर शिव बारात का शुभारंभ किया.

इस उत्सव में द्वापर से कलियुग तक की विभिन्न गाथाएं प्रदर्शित की गईं. काशी, जहां मृत्यु भी एक उत्सव होती है, इसके पुराधिपति बाबा विश्वनाथ के भव्य धाम का उत्सव मनाने में भला कैसे पीछे रहती. वैसे भी यहां साल भर उत्सवों की एक बड़ी शृंखला बनती है. उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग और जिला प्रशासन ने बाबा धाम के लोकार्पण से पहले एक उत्सव की परिकल्पना की और इसको साकार करने का जिम्मा शिवबारात समिति को सौंप दिया.

इस परिकल्पना के तहत शनिवार को एक भव्य शोभायात्रा मैदागिन से निकाली गई. इसमें भगवान शिव, श्रीकृष्ण, राधा के साथ ही काशी की बेटी महारानी लक्ष्मीबाई और महाराणा प्रताप के शौर्य की झलकियां दिखाई गईं.

शिव बारात समिति के संयोजक दिलीप सिंह ने बताया कि ‘हर-हर महादेव’ अविरल उद्घोष के बीच पूरी काशी अपनी मस्ती में गंगा जमुनी तहजीब के साथ विश्वनाथ धाम की ओर चलती रही। 51 लोग शंखघोष कर रहे थे. शोभायात्रा में 11 नदियों का पवित्र जल चांदी के कलश में भरे थे, जिनसे बाबा का जलाभिषेक किया गया। बाबा खुद दूल्हा बने इस शोभायात्रा में शामिल थे.

शोभायात्रा में भारत माता की प्रतिमूर्ति भी तिरंगा लिए चल रही थीं. लोकगीत और लोक कलाकारों ने इस माहौल को और सांस्कृतिक बना दिया. शोभायात्रा के दौरान रास्ते भर लोग पुष्पवर्षा करते रहे. ऐसा लगा मानो, काशी में कोई नया त्योहार शुरू हो गया.

तीन किलोमीटर की दूरी तय करने वाली यह शोभायात्रा खुद ही करीब डेढ़ किलोमीटर लंबी थी.

शोभायात्रा का स्वागत विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं ने किया:राजस्थान ब्राम्हण मंडल, उत्तर प्रदेश स्वर्णकार संघ, युवक व्यापार मंडल, दालमंडी व्यापार मंडल, कोदई चौकी सर्राफा मंडल, वाराणसी व्यापार मंडल, जायसवाल समाज, सिंधी समाज, मारवाड़ी समाज, जैन समाज क्षत्रिय समाज, रोटरी क्लब बनारस, गीता प्रेस, जयपुरिया भवन, केमिस्ट एण्ड ड्रगिस्ट् एसोसिएशन प्रमुख रूप से रहे.

बारात को सकुशल संपन्न कराने वालों में शिव बारात समिति के संयोजक दिलीप सिंह, शोभायात्रा के अध्यक्ष जगदंबा तुलस्यान, सांड बनारसी, आर के चौधरी, बदरुद्दीन, मुकुंद लाल टंडन, पवन खन्ना, महेश महेश्वरी, संदीप केसरी, राम जायसवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.