संकष्टी गणेश चतुर्थी आज, जानें चंद्रोदय का समय और पूजा विधि

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार भगवान गणेश को समर्पित संकष्टी चतुर्थी का व्रत आज यानि कृष्णपक्ष चतुर्थी को मनाया जाता है. इस दिन भक्त व्रत रखते हैं और जीवन में बाधाओं को दूर करने के लिए भगवान गणेश की पूजा करते हैं। संस्कृत में संकष्टी का अर्थ है ‘कठिनाइयों से मुक्ति’. हिंदू त्योहार हर महीने कृष्ण पक्ष के चौथे दिन मनाया जाता है। माना जाता है कि इस दिन भगवान गणेश की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है.

संकष्टी चतुर्थी 2022: चंद्रोदय

चंद्रोदय का मुहूर्त आज रात 8:59 बजे है. चतुर्थी तिथि 21 जनवरी सुबह 08:51 बजे से 22 जनवरी सुबह 09:14 बजे तक है.   

संकष्टी चतुर्थी 2022: पूजा विधि

इस दिन व्रती महिलाएं सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करती हैं तथा पीले पुष्प और दूर्वा अर्पित कर भगवान गणेश की पूजा करती हैं. पूजा के लिए मिट्टी की मूर्ति शुभ मानी जाती है. पूजा के बाद तांबे के कलश में जल चन्द्रदेव को अर्पित करती हैं. इस दौरान गणेश जी के मन्त्रों का जाप करना भी शुभ माना जाता है.

इन मन्त्रों का करें जाप

1- वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

2- ॐ श्रीम गम सौभाग्य गणपतये।
वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नमः॥

3- एकदंताय विद्‍महे। वक्रतुण्डाय धीमहि। तन्नो दंती प्रचोदयात।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.